घर बनाना हुआ और महंगा.. सीमेंट के दाम में 55 रुपए की बढ़ोत्तरी, इस कंपनी ने किया ऐलान

घर बनाना हुआ और महंगा.. सीमेंट के दाम में 55 रुपए की बढ़ोत्तरीः India Cement Limited has decided to increase the price of cement by 55 Rs

Edited By: , May 27, 2022 / 06:48 PM IST

चेन्नईः Increase price of cement by 55 Rs  सीमेंट कंपनी इंडिया सीमेंट लिमिटेड ने सीमेंट की कीमत में प्रति बोरी 55 रुपये की वृद्धि करने की योजना बनाई है। यह वृद्धि चरणबद्ध रूप में की जाएगी। कंपनी के एक शीर्ष अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। इंडिया सीमेंट के उपाध्यक्ष और प्रबंध निदेशक एन श्रीनिवासन ने कहा कि कंपनी ने अपनी 26,000 वर्ग फुट जमीन के कुछ हिस्से को बेचकर संपत्ति के मौद्रिकरण की योजना भी बनाई है। इससे मिली राशि का इस्तेमाल कर्ज चुकाने और विनिर्माण संयंत्रों में सुधार के लिए किया जाएगा। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं प्रति बोरी सीमेंट की कीमत एक जून को 20 रुपये, 15 जून को 15 रुपये और एक जुलाई को 20 रुपये बढ़ा रहा हूं।’’>>*IBC24 News Channel के WhatsApp  ग्रुप से जुड़ने के लिए Click करें*<<

Read more : सुकन्या समृद्धि योजना में सरकार ने किए बड़े बदलाव, अब आप इतने खातों में जमा कर सकेंगे पैसे 

Increase price of cement by 55 Rs श्रीनिवासन ने कहा कि सीमेंट की कीमत में बढ़ोतरी से कंपनी की लागत निकलेगी और इससे कंपनी का बहीखाता बेहतर दिखना चाहिए। जब उनसे पूछा गया कि कुछ सीमेंट विनिर्माता सीमेंट की खुदरा कीमत में कटौती की योजना बना रहे हैं, तो श्रीनिवासन ने कहा, ‘‘कृपया मेरी तुलना दूसरों से न करें। देखिए, मुझे एक काम करना है, मेरी नौकरी एक सीमेंट कंपनी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी की है। सभी लागत बढ़ गई हैं और मुझे (कीमत बढ़ाने के लिए) कुछ करना होगा, नहीं तो मैं और नुकसान उठाऊंगा।’’

Read more :  फिर बढ़ सकते है पेट्रोल और डीजल के दाम, 118 डॉलर के पार पहुंचा क्रूड ऑयल का भाव 

यह पूछने पर कि क्या कीमतों में वृद्धि से बिक्री प्रभावित होगी, उन्होंने कहा कि इससे बिक्री प्रभावित नहीं होगी। उन्होंने आगे कहा, ‘‘ऐसा दो कारणों से है – एक यह कि मैं सबसे अच्छी गुणवत्ता (सीमेंट की) देता हूं और दूसरा यह कि लोग कहते हैं कि मैं अच्छा विनिर्माता हूं। मैं इस क्षेत्र में 75 साल से हूं और मेरे बारे में राय अच्छी है। मेरा ब्रांड पुल बहुत अच्छा है।’’ उन्होंने कहा कि वह अतिरिक्त जमीन के मौद्रिकरण की योजना बना रहे हैं, और इससे मिली धनराशि का इस्तेमाल कर्ज चुकाने तथा संयंत्रों में सुधार के लिए करेंगे, ताकि लागत में कमी आ सके।