Many big rules of banking will change from July 1

Credit Card Rules 2022 : 1 जुलाई से बदलेंगे बैंकिंग के कई बड़े नियम, जिनका असर होगा सीधे आपकी जेब पर….

केंद्रीय बैंक ने एक नोटिफिकेशन में कहा है कि बैंकों पर क्रेडिट कार्ड से जुड़े नए नियम लागू होंगे।जिसका असर सीधे आपकी जेब पर पड़ेगा।

Edited By: , June 27, 2022 / 12:10 PM IST

नई दिल्ली। चंद दिनों में जून का महीना खत्म होने वाला है और जुलाई का महीना शुरू होने को है। जुलाई के महीने की पहली तारीख यानी 1 जुलाई से बैंकिंग सेक्टर में कई बड़े बदलाव होने जा रहे हैं। जिसका असर सीधे आपकी जेब पर पड़ेगा। आपको बता दें कि भारतीय रिजर्व बैंक ने क्रेडिट कार्ड से जुड़े नियमों में बदलाव किया है। इनमें क्रेडिट कार्ड के भुगतान से जुड़े नियम भी शामिल हैं। केंद्रीय बैंक ने एक नोटिफिकेशन में कहा है कि राज्य सहकारी बैंकों और जिला केंद्रीय सहकारी बैंकों को छोड़कर सभी बैंकों पर क्रेडिट कार्ड से जुड़े नए नियम लागू होंगे। आइये जानते हैं कौन-कौन से ऐसे बड़े बदलाव होने वाले हैं…..

1. PAN- Aadhaar Linking: अगर आपने अभी तक अपना आधार-पैन कार्ड लिंक नहीं किया है तो अब आपके पास केवल तीन दिन ही बचे हैं। अपने आधार को पैन से फटाफट लिंक करा लें। आधार पैन को लिंक करने की आखिरी तारीख 30 जून है। आपको बता दें कि 30 जून ​के बाद लिंक का काम करेंगे तो आपको हर्जाना देना होगा।

यह भी पढ़ें:पंजाब के उपचुनाव जीतने पर भिंडरावाले को मिला श्रेय,और देखिए छत्तीसगढ़ के नक्सली मुद्दे पर क्या कहा उम्मीदवार मान ने? 

2. TDS On Cryptocurrency: 1 जुलाई से क्रिप्टोकरेंसी के निवेशकों को बड़ा झटका लगने वाला है। अगले महीने से सभी क्रिप्टो के ट्रांजैक्शन पर 1 फीसदी टीडीएस का भुगतान करना होगा। फिर चाहे उसे मुनाफे में बेचा गया हो या नुकसान में। आपको बता दें कि साल 2022-23 से क्रिप्टोकरेंसी से होने वाले इनकम पर 30 फीसदी टैपिटल गेन टैक्स लगाने का फैसला किया है। अब 1 जुलाई से क्रिप्टो के लेन देन पर 1 फीसदी टीडीएस का भी भुगतान करना होगा।

3. No Unsolicited Credit Card: आरबीआई ने अपने नए क्रेडिट कार्ड नियमों में क्रेडिट कार्ड जारी करने को लेकर बड़ा बदलाव किया है। 1 जुलाई से कोई भी बैंक या क्रेडिट कार्ड जारी करने वाली कंपनी ग्राहकों की सहमति के बिना क्रेडिट कार्ड जारी नहीं कर सकेंगी। अगर ऐसा किया जाता कार्ड जारी करने वाली कंपनी पर जुर्माना लग सकता है।

4. Billing Cycle: फिलहाल क्रेडिट कार्ड के बिल के भुगतान के समय का बिल जेनेरट होने के बाद तय किया जाता है। एक जुलाई से आपके क्रेडिट कार्ड की बिलिंग साइकिल महीने की 11 तारीख से शुरू होगी और अगले महीने के 10 तारीख को समाप्त होगी।

यह भी पढ़ें: जानिए क्या होता है फॉर्म-16? आईटीआर भरते वक्त इन ​चीजों का जरूर रखें ध्यान…. 

5. No Delay in Sending Bills: कार्ड जारी करने वाले संस्थान इस बात को सुनिश्चित करेंगे कि ग्राहकों को बिल का स्टेटमेंट भेजने में देरी नहीं हो, साथ ही ग्राहकों को भुगतान करने के लिए पर्याप्त समय दिया जाए और इसके बाद किसी तरह का ब्याज वसूला जाए|

6. 1 जुलाई से बदलेगी आपकी ऑफिस टाइमिंग: देश में 4 लेबर कोड (श्रम संहिता) के लागू करने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। अगर सबकुछ ठीक रहा तो 1 जुलाई से लेबर कोड के नए नियम लागू हो जाएंगे। इसके लागू होने के साथ ही इन हैंड सैलरी, कर्मचारियों की ऑफिस टाइमिंग, पीएफ कंट्रीब्युशन के अलावा ग्रेच्युटी आदि पर असर पड़ने की संभावना है। प्रस्ताव के मुताबिक, कामकाज के अधिकतम घंटों को बढ़ाकर 12 करने का प्रस्ताव पेश किया है। कर्मचारियों को 4 दिन में 48 घंटे यानी हर दिन 12 घंटे काम करना होगा। कर्मचारियों को हर पांच घंटे के बाद आधा घंटे का विश्राम का भी प्रस्ताव है।

यह भी पढ़ें: बुर्किनी ड्रेस पर फिर छिड़ी बहस, मुस्लिम महिलाओं ने लिया फैसला, देखिए क्या कहता है इस्लाम?

7. Demat Account KYC: अगर आप शेयर बाजार में निवेश करते हैं तो आप 30 जून तक अपना ट्रेडिंग अकाउंट केवाईसी करवा लें वरना आपका अकाउंट अस्थायी रूप से बंद हो सकता है। अगर ऐसा होता है तो आप 1 जुलाई से शेयरों में ट्रेडिंग नहीं कर पाएंगे।

और भी है बड़ी खबरें…

 

#HarGharTiranga