रिजर्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष के लिए मुद्रास्फीति का अनुमान घटाकर 5.3 प्रतिशत किया

रिजर्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष के लिए मुद्रास्फीति का अनुमान घटाकर 5.3 प्रतिशत किया

Edited By: , October 8, 2021 / 02:20 PM IST

मुंबई, आठ अक्टूबर (भाषा) भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने शुक्रवार को खाद्य कीमतों में नरमी और अनुकूल आधार प्रभाव के कारण निकट भविष्य में खुदरा मुद्रास्फीति में भारी गिरावट का अनुमान लगाया है।

जोखिम को समान रूप से संतुलित रखते हुए उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित मुद्रास्फीति अब 2021-22 के लिए 5.3 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया गया है। इससे पहले अगस्त में अपनी मौद्रिक नीति में केंद्रीय बैंक ने आपूर्ति पक्ष की बाधाओं, कच्चे तेल और कच्चे माल की उच्च लागत के कारण मुद्रास्फीति 5.7 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया था।

रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने द्विमासिक मौद्रिक नीति जारी करते हुए कहा, ‘खाद्य कीमतों में नरमी के साथ उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति की रफ्तार कम हो रही है। इससे अनुकूल आधार प्रभाव के साथ मुद्रास्फीति में पर्याप्त कमी आएगी।’’

तिमाही आधार पर, दूसरी तिमाही के लिए उपभोक्ता मूल्य सूचंकाक (सीपीआई) आधारित मुद्रास्फीति 5.1 प्रतिशत, तीसरी तिमाही में 4.5 प्रतिशत और चौथी तिमाही में 5.8 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया गया है। 2022-23 की पहली तिमाही के लिए सीपीआई के 5.2 प्रतिशत रहने का अनुमान है।

भाषा प्रणव अजय

प्रणव