Bhanupratap bypoll 2022 : Voters have put their verdict in EVM

वोटिंग खत्म.. पॉलिटिक्स जारी, ‘नेताम’ पर जंग जारी! इस पूरे हो-हल्ला, हिरासत और हंगामे का सार क्या निकला?

वोटिंग खत्म.. पॉलिटिक्स जारी, 'नेताम' पर जंग जारी! Bhanupratap bypoll 2022 : Voters have put their verdict in EVM

Edited By: , December 6, 2022 / 12:12 AM IST

रायपुरः Bhanupratap bypoll 2022 : 5 दिसंबर का दिन छत्तीसगढ़ और खासतौर पर भानूप्रतापुर में सियासी उठा-पटक और हाईवोल्टेज पुलिसिया एक्शन के नाम रहा। सुबह से दोपहर तक भानुप्रतापुर की जनता ने जमकर वोट किया। फिर दोपहर होते-होते भाजपा प्रत्याशी ब्रम्हानंद नेताम को रांची हाईकोर्ट से राहत का संदेश मिला, उसके फौरन बाद झारखंड पुलिस ने नेताम को हिरासत में लेने पहुंच गई। जहां भाजपा कार्यकर्ताओं ने घेरकर ऐसी नारेबाजी की कि उन्हें बिना नेताम को लिए लौटना पड़ा। सवाल ये कि इस पूरे हो-हल्ला, हिरासत और हंगामे का सार क्या निकला, जनता ने तो ईवीएम में अपना फैसला लिख दिया है। आखिर किसका साथ दिया है और किसपर भरोसा किया है?

Read More : Sadanand Shahi: सदानंद शाही बने शंकराचार्य प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी के कुलपति, राज्यपाल ने जारी किया आदेश 

Bhanupratap bypoll 2022  भानुप्रतापपुर में जैसे ही वोटिंग खत्म हुई। बीजेपी प्रत्याशी ब्रह्मानंद नेताम को हिरासत में लेने झारखंड पुलिस कांकेर पहुंच कर हिरासत में लिया। जिसके बाद बीजेपी कार्यकर्ताओं ने पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की। काफी देर तक इसी तरह हाईवोल्टेज ड्रामा चलता रहा। बीजेपी कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच झूमा झटकी भी हुई है। बीजेपी कार्यकर्ताओं के विरोध के बाद झारखंड पुलिस ब्रह्मानंद नेताम खाली हाथ लौट आई।

Read More : जानें कौन हैं कुमारी शैलजा? जिन्हें छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव से पहले मिली प्रदेश प्रभारी की कमान 

जैसे ही ब्रह्मानंद नेताम को हिरासत में लेने की खबर आई तो सियासत गरमा गई। क्योंकि झारखंड हाईकोर्ट ने ब्रह्मानंद नेताम को बड़ी राहत दी है। झारखंड हाईकोर्ट ने नेताम की गिरफ्तारी पर रोक लगाकर राहत दी।

Read More : Himachal Election 2022: पहली बार निर्वाचन आयोग के इस मोबाइल एप और पोर्टल से तुरंत जान सकेंगे चुनावी रिजल्ट

बहरहाल भानुप्रतापपुर उपचुनाव में मतदाताओं ने काफी उत्साह दिखाया। यहां 72 फीसदी से ज्यादा वोटिंग हुई। अब सबको इंतजार है 8 दिसंबर का जब रिजल्ट आएगा। भले ही नतीजों से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला, लेकिन बीजेपी और कांग्रेस ने इसे जीतने के लिये एड़ी चोटी का जोर लगाया। दोनों ही दल अपने-अपने जीत के दावे कर रही हैं। जनता ने किसे दिया आशीर्वाद और किसके दावों में कितना दम है।