Our government worked towards preserving traditional business

हमारी सरकार ने परंपरागत व्यवसाय को संरक्षित करने की दिशा में कार्य किया- सीएम भूपेश बघेल

हमारी सरकार ने परंपरागत व्यवसाय को संरक्षित करने की दिशा में कार्य कियाः Our government worked towards preserving traditional business

Edited By: , December 8, 2022 / 10:55 PM IST

रायपुरः Our government worked towards preserving मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज मुख्यमंत्री निवास में चर्म शिल्पकार विकास बोर्ड के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने बोर्ड के नव नियुक्त अध्यक्ष तरूण बिजौर एवं सदस्यगण, खिलावान बघेल, मती सरोजनी रात्रे, और तुलसी दौड़िया को नई जिम्मेदारियों के लिए बधाई और शुभकामनाएं दी। बघेल ने कहा कि मुझे आशा है कि बोर्ड के अध्यक्ष सारे सदस्य को जो जिम्मेदारी दी गई है उसे पूर्ण समर्पण भाव करते हुए प्रदेश की प्रगति में भागीदारी निभाएगें। इस अवसर पर कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, राज्य अनुसूचित जाति के अध्यक्ष के.पी खान्डे और उपाध्यक्ष पदमा मनहर भी उपस्थित थे।

Read More : Himachal Election Result : हिमाचल की इन सीटों पर थी सबकी नजर, खुद सीएम भी यहीं से लड़ रहे थे चुनाव, जानें यहां कौन जीता? 

Our government worked towards preserving इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि मानव सभ्यता के शुरूआत से चमड़े का महत्व रहा है। पहले चमड़े से बने हुए जूते चप्पल पहना करते थे। धीरे-धीरे विकास की दौड़ में चमड़े के व्यापार को प्रभावित किया, चमड़े का उपयोग कम होता गया। जूते चप्पल के निर्माण में भी दूसरे पदार्थ का उपयोग किया जाने लगा।

Read More : राजधानी के इस इलाके से लापता हुई 8 साल की बच्ची, परिजनों ने लगाए पुलिस पर आरोप 

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार बनने पर हम ने परंपरागत व्यवसायों को संरक्षित करने का कार्य किया, हमने गौठान बनाये गए। उन्होंनें कहा कि परंपरागत व्यवसाय से बने उत्पादों को आधुनिक बाजार में अच्छा प्रतिसाद मिले इसके लिए इसे उत्पादों की अच्छी पैकेजिंग कराने की व्यवस्था की ब्राडिंग की और उनकी बिक्री के लिए शहरों में सी मार्ट की व्यवस्था की गई। साथ ही रूरल इन्डस्ट्रियल पार्क की स्थापना की गई है। इसके विकास के लिए 600 करोड़ रूपए बजट का प्रावधान किया गया है। इससे हमारे परंपरागत व्यवसायों के विकास के साथ गांव में अन्य व्यापार करने के भी अवसर मिलेंगे। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री को उनकी छाया चित्र भेंट की गई। इस समय समाज के अन्य प्रतिनिधी उपस्थित थे।