मध्यान्ह भोजन के बदले मिलने वाला चावल खाकर बीमार हुए ग्रामीण, लोगों ने प्लास्टिक चावल बताकर लेने से किया इंकार

मध्यान्ह भोजन के बदले मिलने वाला चावल खाकर बीमार हुए ग्रामीण! Public Become Sick to eat Government Provide Rice

: , January 24, 2022 / 11:55 PM IST

डोंगरगढ़: Public Become Sick ग्रामीण इलाकों में मध्यान्ह भोजन के बदले मिलने वाले चावल को खाने के बाद लोगों के बीमार पड़ने की शिकायत सामने आई है। दरअसल डोंगरगढ़ विकासखंड के 100 से अधिक प्राथमिक और पूर्व माध्यमिक स्कूल में बच्चों को मध्यान्ह भोजन के बदले घर पहुंचा कर चावल दिया जा रहा है।

Read More: काम के बोझ से बचने ABFO ने अधिकारियों को भिजवाई फर्जी कोरोना रिपोर्ट, रिपोर्ट की हुई जांच तो पता चला टेस्ट ही नहीं कराया

Public Become Sick पूरे मामले में विकासखंड शिक्षा अधिकारी का कहना है कि जो चावल दिया जा रहा है वो गुणवत्ता पूर्वक है और बच्चों को कुपोषण से मुक्त करने के लिए उन्हें प्रोटिनयुक्त चावल दिया जा रहा है, जिसकी कीमत भी सामान्य चावल से दोगुनी है। इसकी जानकारी स्कूल के शिक्षकों को दी गई है कि गांव-गांव जाकर लोगों को इसकी जानकारी दी जाए जिससे लोगों का भ्रम दूर हो।

Read More: पत्थलगांव नगर पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ पारित हुआ अविश्वास प्रस्ताव, नहीं काम आई प्रदेश अध्यक्ष साय की समझाइश

आपको बता दे की एक माह पहले ग्राम मडियान में भी सोसाइटी से मिलने वाले चावल को ग्रामीणों ने प्लास्टिक का बताकर लेने से मना कर दिया था।

Read More: उत्तराखंड चुनाव के लिए कांग्रेस ने जारी किया कैंपेन सॉन्ग, चार धाम, चार काम के नाम से की बड़ी घोषणाएं