मोदी सरकार के इस फैसले का कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने किया समर्थन, शशि थरूर ने बताया था असहिष्णुता वाला कदम

मोदी सरकार के इस फैसले का कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने किया समर्थन, शशि थरूर ने बताया था असहिष्णुता वाला कदम

Edited By: , March 10, 2021 / 02:09 AM IST

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने मोदी सरकार के ब्रिटिश सांसद डेबी अब्राहम्स को दिल्ली एयरपोर्ट से वापस भेजने के फैसले का समर्थन किया है। अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा है कि संप्रभुता पर हमले की कोशिश नाकाम करना जरूरी है, जबकि पार्टी के नेता शशि थरूर इस कदम को असहिष्णुता बता चुके हैं। इस तरह से ब्रिटिश सांसद डेबी अब्राहम को भारत में एंट्री से रोके जाने पर कांग्रेस के भीतर ही अलग-अलग राय बन गई है।

ये भी पढ़ें:स्वामीजी का विवादित ज्ञान, कहा- पीरियड के दौरान महिला के हाथ से बना खाना खाने…

मोदी सरकार के हर फैसले पर सवाल उठाने वाली कांग्रेस के 2 नेताओं के सुर एक-दूसरे से इतने जुदा है कि समझ में नहीं आ रहा कि कांग्रेस पार्टी का वास्तविक स्टैंड क्या है। कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने मोदी सरकार के फैसले का समर्थन करते हुए आज एक ट्वीट किया है।

ये भी पढ़ें: इश्तेहार देकर बेरोजगार युवक ने कहा- चाहिए कमाऊ दुल्हन, देशभक्ति भरी…

इस ट्वीट में उन्होंने लिखा कि “भारत की ओर से डेबी अब्राहम्स को वापस भेजना जरूरी था। वो सिर्फ एक ब्रिटिश सांसद नहीं थीं, बल्कि वो उस पाकिस्तान की हिमायती थीं जो वहां की सरकार, ISI के लिए काम करने के लिए जानी जाती हैं। भारत की संप्रभुता पर हमला करने की कोशिश को नाकाम करना जरूरी है।

ये भी पढ़ें: पति हैरान, ससुराल वाले परेशान, वेलेंटाइन डे पर हुई शादी, दो दिन बाद…

जबकि शशि थरूर ने कल डेबी अब्राहम्स को वापस भेजे जाने पर सवाल उठाया है, थरूर के मुताबिक ऐसे लोगों को भारत में प्रवेश न देने से भारत को एक संकीर्ण दिमाग और असहिष्णु वाला देश समझा जाएगा जोकि सही नहीं है।

ये भी पढ़ें: भूकंप से हिला शिमला, रिक्टर पैमाने पर इतनी रही तीव्रता, जानमाल के न…

जम्मू-कश्मीर से 370 हटाने के फैसले पर सवाल उठाने वाली ब्रिटिश सांसद डेबी अब्राहम्स को दिल्ली हवाई अड्डे पर उतरने के बाद भारत में प्रवेश नहीं करने दिया गया था, गृह मंत्रालय के मुताबिक उन्हें पहले ही ई-वीजा रद्द होने की सूचना भी दे दी गई थी, बावजूद इसके वे ​दिल्ली एयरपोर्ट पहुंच गई थी।