प्रधानमंत्री मोदी ने त्रिपुरा, पूर्वोत्तर में बदलाव किया: भाजपा |

प्रधानमंत्री मोदी ने त्रिपुरा, पूर्वोत्तर में बदलाव किया: भाजपा

प्रधानमंत्री मोदी ने त्रिपुरा, पूर्वोत्तर में बदलाव किया: भाजपा

: , February 7, 2023 / 06:56 PM IST

नयी दिल्ली, सात फरवरी (भाषा) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मंगलवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के केंद्र में सत्ता में रहने से त्रिपुरा और पूरे पूर्वोत्तर में ‘‘बदलाव’’ आया है। पार्टी ने यह दावा भी किया कि इस बार के त्रिपुरा विधानसभा चुनाव में वह फिर से जीत हासिल करेगी और सरकार बनाएगी।

केंद्रीय मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कांग्रेस की ‘‘पूर्व की ओर देखो’’ की नीति इतनी खोखली थी कि वह कभी जमीनी हकीकत को स्पर्श ही नहीं कर सकी। उन्होंने कहा कि यह प्रधानमंत्री मोदी ही थे जिन्होंने वास्तव में उस नीति को जमीन पर उतारा और वहां परिवर्तन किया।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री का ‘‘एचआईआरए’’ (हीरा) मॉडल त्रिपुरा में और समृद्धि सुनिश्चित करेगा।

ज्ञात हो कि ‘‘हीरा’’ शब्द का उपयोग भाजपा द्वारा राजमार्गों, इंटरनेट, सड़कों और हवाई अड्डों पर सरकार के जोर देने के संदर्भ में किया जाता है।

सोनोवाल ने कहा कि न केवल राष्ट्रीय स्तर पर, बल्कि त्रिपुरा ने अब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी ख्याति अर्जित की है क्योंकि इसके निर्यात और मजबूत बुनियादी ढांचे ने इसके विकास के मार्ग को प्रशस्त किया है।

त्रिपुरा में सत्तारूढ़ भाजपा के खिलाफ हाथ मिलाने वाले वाम दलों और कांग्रेस पर हमला बोलते हुए केंद्रीय मंत्री ने आरोप लगाया कि आतंकवाद, मादक पदार्थ और भ्रष्टाचार ने पूर्वोत्तर राज्य को उनके चार दशक के सामूहिक शासन के तहत प्रभावित किया क्योंकि उनके पास क्षेत्र के विकास के लिए न तो नीतियां थीं और न ही कोई इरादा।

उन्होंने कहा कि भाजपा के पास न केवल नीतियां और नीयत है, बल्कि मोदी के रूप में एक महान नेता भी है, जिन्होंने त्रिपुरा के लोगों की सामाजिक सुरक्षा और उनका आर्थिक उत्थान सुनिश्चित करने के लिए काम किया है।

सोनोवाल ने कहा कि केंद्र में कांग्रेस के शासन के दौरान पूर्वोत्तर को राष्ट्रीय एजेंडे में कभी उचित महत्व नहीं दिया गया और यही वजह रही कि वह पिछड़ा रहा।

संवाददाता सम्मेलन के दौरान भाजपा से संबद्ध थिंकटैंक ‘‘पब्लिक पॉलिसी रिसर्च सेंटर’’ ने एक रिपोर्ट जारी की। इसमें दावा किया गया कि 2018 से त्रिपुरा में भाजपा के शासन के तहत किसानों की आय में भारी वृद्धि देखी गई है और राज्य में 58 प्रतिशत से अधिक घरों में पाइप से पीने का पानी पहुंचा है, जो पहले 3.5 प्रतिशत से कम था।

पब्लिक पॉलिसी रिसर्च सेंटर के निदेशक सुमीत भसीन ने यह रिपोर्ट जारी की।

त्रिपुरा की 60 सदस्यीय विधानसभा के लिए 16 फरवरी को मतदान होगा और मतों की गिनती दो मार्च को होगी।

भाषा ब्रजेन्द्र ब्रजेन्द्र पवनेश

पवनेश

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)