देश में लगातार 44वें दिन नए मामलों की तुलना में संक्रमण मुक्त होने वाले मरीजों की संख्या ज्यादा

Edited By: , March 11, 2021 / 07:19 PM IST

नयी दिल्ली, 16 नवंबर (भाषा) भारत में लगातार 44वें दिन कोविड-19 संक्रमण के नए मामलों की तुलना में संक्रमण से उबरने वालों की संख्या ज्यादा रही। देश में कोरोना वायरस के 30,548 नए मामले आए हैं जबकि 43,851 मरीज ठीक हो गए।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान इलाज करा रहे मरीजों की संख्या 13,303 घटकर 4,65,478 रह गई जो अब तक के कुल मामलों का 5.26 प्रतिशत है।

मंत्रालय ने कहा, ‘ रोजाना सामने आ रहे कोरोना वायरस के नए मामलों की संख्या घटकर रिकार्ड निचले स्तर 30,548 पर पहुंच गई है। ऐसे समय में जब यूरोप के कई देशों और अमेरिका में कोविड-19 के रोजाना मामले लगातार बढ़ रहे हैं, तब भारत में इनका कम हो जाना एक ऐतिहासिक उपलब्धि की तरह है। ‘

मंत्रालय ने कहा कि व्यापक स्तर पर जांच कराए जाने के सरकारी प्रयासों की वजह से संक्रमण के मामलों में लगातार कमी आ रही है

संक्रमण से मुक्त होने की दर सुधरकर 93.27 प्रतिशत हो गई । अबतक कुल 82,49,579 लोग संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं।

मंत्रालय के मुताबिक, पिछले 24 घंटों में ठीक होने वाले 78.59 प्रतिशत लोग दस राज्यों और केन्द्रशासित प्रदेशों से हैं।

इस दौरान दिल्ली में सबसे ज्यादा 7,606 लोग ठीक हो गए। केरल में 6,684 और पश्चिम बंगाल में 4,480 मरीजों ने संक्रमण को मात दी ।

मंत्रालय ने कहा कि 76.63 प्रतिशत नए मामले दस राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों से आए हैं। केरल में संक्रमण के 4,581 नए मामले सामने आए हैं। दिल्ली में पिछले कुछ दिनों से संक्रमण के मामलों में तेजी आ रही थी लेकिन इसके बावजूद रविवार को नए मामलों की संख्या 3,235 रही। पश्चिम बंगाल में इस दौरान 3,053 नए मामले दर्ज किए गए।

मंत्रालय ने बताया कि बीते 24 घंटे में हुई 435 मौतों में से 78.85 प्रतिशत दस राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों में हुई हैं।

करीब 21.84 प्रतिशत अर्थात 95 लोगों की मौतें दिल्ली में हुई हैं। इसके बाद महाराष्ट्र का नबंर है जहां 60 लोगों की मौत हुई है जो 24 घंटे में हुई मौतों का 13.79 प्रतिशत है।

मंत्रालय ने बताया कि 14 राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों में प्रति दस लाख की आबादी पर मृत्यु दर 94 के राष्ट्रीय औसत से ज्यादा है।

मंत्रालय ने बताया कि केन्द्र सरकार राज्यों और केन्द्रशासित प्रदेशों के साथ करीबी समन्वेय के साथ काम कर रही है ताकि वे आईसीयू के लिए विकसित प्रभावी देखभाल प्रोटोकॉल प्रबंधन के तहत गंभीर रुप से प्रभावित मरीजों की उचित देखभाल के लिए और सुधार कर सकें।

मंत्रालय ने कहा कि ये प्रोटोकॉल निजी और सरकारी दोनों तरह के अस्पतालों के लिए बनाए गए हैं। इनके तहत अस्पतालों में भर्ती मरीजों तथा घरों में पृथक-वास में रहने वालों की देखभाल के लिए कुछ दिशानिर्देश जारी किए गए हैं, जिनपर सभी को अमल करना जरुरी है।

मंत्रालय ने बताया कि राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों की ओर से कोविड-19 से निपटने के लिए किए जा रहे उपायों की समीक्षा के लिए नियमित रूप से उच्च स्तरीय बैठकें भी आयोजित की जा रही हैं।

भाषा नोमान आशीष

आशीष