Men can do family planning without condom and sterilization

Male contraceptive: बिना कंडोम और नसबंदी के परिवार नियोजन कर सकते हैं पुरुष, सिर्फ करना होगा ये काम

Male contraceptive : परिवार नियोजन में अब केवल महिलाओं को ही गर्भ निरोधक गोलियां लेनी नहीं पड़ेंगी। बल्कि पुरुष भी चाहें तो परिवार नियोजन...

Edited By: , June 25, 2022 / 05:49 PM IST

Male contraceptive: परिवार नियोजन में अब केवल महिलाओं को ही गर्भ निरोधक गोलियां लेनी नहीं पड़ेंगी। बल्कि पुरुष भी चाहें तो परिवार नियोजन कर सकते हैं। परिवार नियोजन में मदद कर सकते हैं। जनसंख्या नियंत्रण में अपना महती योगदान दे सकते हैं। बता दें कि अभी तक सिर्फ महिलाओं के लिए ही बाजार में गर्भनिरोधक गोलियां मिलती थी, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। अब पुरुष भी  गर्भनिरोधक गोली ले सकते हैं।>>*IBC24 News Channel के WhatsApp  ग्रुप से जुड़ने के लिए Click करें*<<

यह भी पढ़ें  : Shaadi Muhurat 2022: जल्द गूंजेगी शहनाई, इस महीने से शुरू हो रहे हैं शादी-ब्याह के शुभ मुहूर्त, देखें डिटेल

दरअसल, वैज्ञानिकों ने पुरुषों के लिए भी गर्भनिरोधक गोली बनाई हैं, जो पुरुषों की सेहत को बिना नुकसान पहुंचाए पार्टनर की प्रेग्नेंसी रोकने में सफल हो सकती है। हाल ही में एक नई स्टडी में दावा किया गया है, दो पुरुष गर्भनिरोधक गोलियां  बिना साइड इफेक्ट के टेस्टोस्टेरोन लेवल और शुक्राणुओं की संख्या को कम कर सकती हैं। यह स्टडी अटलांटा में एंडोक्राइन सोसाइटी की एनुअल मीटिंग में प्रेजेंट की जाएगी।

यह भी पढ़ें  : ‘मोदी ने भगवान शिव की तरह विषपान किया, अब सच सोने जैसा चमक रहा’ 

96 पुरुषों पर रिसर्च

दो चरणों में हुई रिसर्च के एक क्लिनिकल ट्रायल में 96 स्वस्थ पुरुष शामिल हुए थे। दोनों परीक्षणों के दौरान पुरुषों को 28 दिनों के लिए रोजाना दो या चार ओरल दवा या प्लेसबो दिया गया। निष्कर्ष में पाया गया कि दवा लेने वाले लोगों का टेस्टोस्टेरोन लेवल सात दिन बाद सामान्य से कम हो गया था और वहीं प्लेसबो लेने वाले पुरुषों का टेस्टोस्टेरोन का लेवल सामान्य था।

Male contraceptive:  DMAU और 11b-MNTDC नाम की दो दवाएं प्रोजेस्टोजेनिक एण्ड्रोजन दवाओं का हिस्सा हैं। आमतौर पर टेस्टोस्टेरोन लेवल को कम करने वाली दवाओं से कई नुकसान होते हैं। ये दवाएं भी टेस्टोस्टेरोन को कम कर करती हैं, लेकिन कोई साइड इफेक्ट नहीं होता। टेस्टोस्टेरोन को दबा देती हैं, जिससे शुक्राणुओं की संख्या कम हो जाती है। टेस्टोस्टेरोन लेवल को कम करने के लिए पुरुष जो तरीके अपनाते हैं, उनसे साइड इफेक्ट होते हैं। लेकिन जब रिसर्च में इन दवाओं का प्रयोग किया गया तो पाया गया कि अधिकांश पुरुष इन दवाओं का उपयोग आगे भी करना चाहते थे।

यह भी पढ़े : 48वां G7 शिखर सम्मेलन में शामिल होंगे PM नरेंद्र मोदी, अगले हफ्ते करेंगे जर्मनी की यात्रा

और भी है बड़ी खबरें…

 

#HarGharTiranga