ऑनलाइन क्लास के दौरान हस्तमैथुन करने लगा प्रोफेसर, छात्रा ने बनाया वीडियो, नौकरी से बर्खास्त होने पर बोला मैं नपुंसक हूं

ऑनलाइन क्लास के दौरान हस्तमैथुन करने लगा प्रोफेसर, छात्रा ने बनाया वीडियो, नौकरी से बर्खास्त होने पर बोला मैं नपुंसक हूं

Edited By: , November 22, 2021 / 11:43 AM IST

Professor started masturbating

न्यूयॉर्क। एक विश्वविद्यालय ने अपने प्रोफेसर को ऑनलाइन क्लास के दौरान मास्टरबैट करने के आरोप में नौकरी से निकाल दिया है। जिसके बाद आरोपी प्रोफेसर ने न्यूयॉर्क के फोर्डहम विश्वविद्यालय के खिलाफ मुकदमा दायर किया है। इस मुकदमें में हॉवर्ड रॉबिन्सन नाम के प्रोफेसर ने दावा किया है कि वह नपुंसक है। रॉबिन्सन का यह भी दावा है कि उसके नागरिक अधिकारों का उल्लंघन किया गया था और वह चाहता है कि विश्वविद्यालय उसे बहाल करे।

read more: टीवी शो ‘अनुपमा’ में अहम रोल निभाने वाली ऐक्ट्रेस का निधन, टीवी जगत में फैला शोक
प्रोफेसर ने दावा किया कि विश्वविद्यालय ने उसे अपना बचाव करने के अधिकार से वंचित कर दिया था। मुकदमे में कहा गया है कि यौन दुराचार और यौन उत्पीड़न संघीय नागरिक अधिकार कानून शीर्षक 11 के अंतर्गत आता है। अगर रॉबिन्सन ने इसका उल्लंघन किया तो वह लाइव सुनवाई के हकदार थे। हालांकि, फोर्डहम विश्वविद्यालय ने फैसला किया था कि यह घटना इस कानून से बाहर की थी इसलिए बिना सुनवाई के प्रोफेसर को बर्खास्त कर दिया गया था।

read more: फिर लौट रहा कोरोना, एक ही स्कूल की 288 छात्राएं संक्रमित, इस राज्य में सामने आए 5 हजार से ज्यादा मामले
हॉवर्ड रॉबिन्सन का आरोप है जिस छात्रा ने उसे हस्तमैथुन करने का दावा किया था। उस समय वह 69 साल की उम्र होने के कारण कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से गुजर रहा था। हालांकि इस युवती ने पूरी घटना को मोबाइल में रिकॉर्ड कर लिया था। उसने अपने भाई और बॉयफ्रेंड से इस वीडियो को दिखाया। दोनों ने माना कि प्रोफेसर इस दौरान हस्तमैथुन कर रहा था।

read more: Hina Khan Photos: रेड ड्रेस में Hina Khan की इन कातिलाना अदाओं ने फैन्स को बनाया दीवाना, देखें एक्ट्रेस की खूबसूरत तस्वीरें
69 वर्षीय प्रोफेसर का दावा है कि वह इरेक्टाइल डिसफंक्शन से पीड़ित होने के कारण हस्तमैथुन करने में असमर्थ हैं। रॉबिन्सन ने कहा कि उन्हें कथित तौर पर पेशाब की समस्या है। उन्होंने दावा किया कि पेशाब करने के लिए भी उन्हें संघर्ष करना पड़ता है। हालांकि वीडियो देखने के बाद विश्वविद्यालय ने उनके दावों को तब खारिज कर दिया था।