Crop damaged due to heavy rain: किसानों के माथे पर खिंची चिंता की लकीरें

किसानों के माथे पर खिंची चिंता की लकीरें, बारिश ने खराब की फसल, सरकार का नहीं इस ओर ध्यान

Crop damaged due to heavy rain: किसानों के माथे पर खिंची चिंता की लकीरें, बारिश ने खराब की फसल, सरकार का नहीं इस ओर ध्यान

Edited By: , August 18, 2022 / 01:05 PM IST

Crop damaged due to heavy rain: भोपाल। मध्यप्रदेश में मूसलाधार बारिश ने कई किसानों की उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। लगातार हो रही बारिश से प्रदेश के कई हिस्सों में खरीफ फसलों को भारी नुकसान हुआ है। खेतों में पानी भरा हुआ है। इससे सोयाबीन, मूंग, उड़द, तुअर, मक्का, सब्जी सहित दूसरी खराब हुई है। किसानों को खेत से पानी निकालने की सलाह दी जा रही है क्योंकि खेतों में पानी भरा रहने से फसलें गलने लगेंगी।

ये भी पढ़ें- बीजेपी की फायर ब्रांड नेत्री के करीबी की बढ़ी मुश्किलें, ब्राह्मण समाज को लेकर ये क्या कह गए नेता जी…

इन फसलों को होगा फायदा

Crop damaged due to heavy rain: किसानों को जहां एक तरफ बारिश से नुकसान ढेलना पड़ रहा है तो वहीं धान और गन्ना के लिए यह बारिश फायदेमंद है लेकिन सोयाबीन सहित दूसरी फसलें अधिक समय तक पानी में नहीं रह सकती हैं। प्रदेश के बैतूल, नर्मदापुरम, बालाघाट, छिंदवाड़ा,सिवनी, मंडला ,भोपाल, रायसेन, सीहोर, विदिशा, हरदा सहित अन्य जिलों में लगातार हुई तेज बारिश से फसलों को भारी नुकसान हुआ हैं।

ये भी पढ़ें- निकाय चुनाव की समीक्षा कर रही बीजेपी, कई नेताओं पर हो सकता है एक्शन, पार्टी ने किया तलब

इन फसलों की हो चुकी बोवनी

Crop damaged due to heavy rain: गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में 135 लाख हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में खरीफ फसलों की बोवनी हो चुकी है। सर्वाधिक 50 लाख हेक्टेयर में सोयाबीन की बोवनी हुई है,धान की 28.27 लाख हेक्टेयर में बोवनी हुई है। इसके अलावा मक्का का क्षेत्र इस बार 15 लाख 90 हजार हेक्टेयर हुआ है। तो वहीं उड़द 16 लाख 33 हजार हेक्टेयर में लगाई गई है। अब मामले में बीजेपी और कांग्रेस में सियासत भी शुरू हो गई है। फसल क्षति के आकलन का अब तक सर्वे नहीं होने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस ने सरकार पर सवाल उठाए हैं वहीं बीजेपी सरकार के बचाव की मुद्रा में है,और कह रही है सरकार किसानों के साथ है।

IBC24 की अन्य बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें