अब हिंदू-उर्दू पर नई लड़ाई! नाम परिवर्तन के बाद अब शब्द परिवर्तन, जनता को कितनी रास आएगी शब्द परिवर्तन की कवायद?

अब हिंदू-उर्दू पर नई लड़ाई! नाम परिवर्तन के बाद अब शब्द परिवर्तन : Now a new fight on Hindu-Urdu! After the name change

Edited By: , December 2, 2021 / 11:36 PM IST

भोपालः यूपी समेत कुछ और प्रदेशों के बाद अब मध्यप्रदेश में भी सरकारी कार्यवाही में शामिल कुछ उर्दू , अरबी और फारसी शब्दों को ये कहते हुए हटाने का फैसला किया गया है अब ये शब्द आमजन की समझ से परे हैं, लेकिन सत्तापक्ष के इस तर्क को खारिज करते हुए विपक्ष सरकार की मंशा पर ही सवाल उठा रही है। आखिर क्या और क्यों इन शब्दों को बदला जा रहा है और इस पर विपक्ष की आपत्ति किस बाद को लेकर है।

Read more :  वित्तीय प्रबंधन पर वार-पलटवार। बीजेपी-कांग्रेस में जुबानी जंग तेज!

वीओ-01 प्रदेश में नाम बदलने की कवायद के बाद अब कई शब्दों को बदलने की तैयारी है। सरकारी और खास तौर पर पुलिसिया कार्यवाही में इस्तेमाल होने वाले उर्दू,अरबी और फारसी शब्दों को बदलने की तैयारी की जा रही है। इसकी शुरूआत राजस्व विभाग से हो चुकी है। इसके पीछे सत्तापक्ष का तर्क है कि आज के दौर में ये शब्द आम लोगों की समझ से परे हैं। गृह मंत्रालय ने भी पुलिस कार्यवाही में चलन में रहे उर्दू, अरबी और फारसी शब्दों को बदलने का ऐलान किया है। इसपर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कुछ शब्द रिफ्यूजी की तरह लगते हैं, जिन्हें अब बदला जाएगा।

Read more : मुंबई इंडियंस ने हार्दिक पंड्या को नहीं किया रिटेन, सोशल मीडिया में शेयर किया इमोशनल वीडियो

इधर, कांग्रेस ने शब्दों को बदलने की सरकार की मंशा पर सवाल उठाए हैं। पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा ने कहा कि पहले नाम बदलने तो अब उर्दू के शब्द हटाकर बीजेपी सिर्फ कोरी सियासत कर रही है। शर्मा ने कहा कि केंद्र और राज्य की बीजेपी सरकार फेल हो चुकी है। मुद्दों पर से ध्यान हटाने जानबूझकर ऐसी कवायद कर रही है।

Read more : बेरोजगार युवाओं के लिए सुनहरा अवसर, कम्यूटर टीचर सहित इन पदों पर होने जा रही है बंपर भर्ती, 8वीं पास भी कर सकते हैं आवेदन 

पहले हबीबगंज को रानी कमलपति रेलवे स्टेशन और मिंटो हॉल को कुशाभाउ ठाकरे के नाम पर नाम परिवर्तन करने के बाद अब सरकारी शब्दावली से उर्दू,अरबी, फारसी के शब्दों को चलन से हटाया जा रहा है। लेकिन बड़ा सवाल ये कि ये नाम और शब्द परिवर्तन की कवायद आमजनता को कितनी रास आती है। प्रदेश के आमजन को सियासत का ये चलन कितना उपयोगी लगता है?