उद्धव गुट ने दशहरा रैली की अनुमति न दिए जाने की भाजपा की ‘पटकथा’ बताया |

उद्धव गुट ने दशहरा रैली की अनुमति न दिए जाने की भाजपा की ‘पटकथा’ बताया

उद्धव गुट ने दशहरा रैली की अनुमति न दिए जाने की भाजपा की ‘पटकथा’ बताया

: , September 22, 2022 / 04:03 PM IST

मुंबई, 22 सितंबर (भाषा) महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना ने बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) द्वारा शिवाजी पार्क में दशहरा रैली की अनुमति नहीं देने के फैसले को ‘‘अपेक्षित’’ करार दिया। उसने दावा किया कि अनुमति नहीं देने ‘‘बहुत खराब पटकथा’’ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की ओर से लिखी गई है।

ठाकरे नीत शिवसेना की प्रवक्ता एवं मुंबई की पूर्व महापौर किशोरी पेडणेकर ने यह आरोप भी लगाया कि पांच अक्टूबर को होने वाली सालाना रैली की अनुमति ना देकर भाजपा उनकी पार्टी को किनारे करने की कोशिश कर रही है।

महाराष्ट्र विधानसभा में उद्धव गुट के नेता अजय चौधरी ने कहा कि बीएमसी की अनुमति के बगैर ही पार्टी का वार्षिक आयोजन मध्य मुंबई के ऐतिहासिक मैदान में होगा।

उन्होंने दावा किया कि पार्टी अपनी रैली आयोजित करने के लिए ‘‘गुरिल्ला युद्ध नीति’’ की मदद लेगी।

बीएमसी ने उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे नीत पार्टी के प्रतिद्वंद्वी गुट को शिवाजी पार्क में दशहरा रैली के आयोजन की अनुमति नहीं दी है। दोनों गुट ‘‘वास्तविक शिवसेना’’ होने का दावा करते हैं और उन्होंने शिवाजी पार्क में अपनी-अपनी दशहरा रैली के आयोजन की अनुमति मांगी थी।

पिछले हफ्ते शिंदे गुट को मुंबई के बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स (बीकेसी) के एमएमआरडीए मैदान में एक रैली करने की अनुमति मिली थी।

पेडणेकर ने कहा कि ठाकरे गुट को अनुमति नहीं मिलना अपेक्षित था। उन्होंने दावा किया कि यह अपनी राजनीति करने के लिए हर किसी को संकट में डालने की भाजपा की ‘‘बेहद खराब पटकथा’’ है।

पेडणेकर ने कहा, ‘‘यह रैली 56 साल से शिवाजी पार्क में हो रही है। यह पिछले दो वर्षों से कोविड-19 महामारी के कारण नहीं हो सकी। वे उद्धव ठाकरे और शिवसेना को घेरना चाहते हैं। हमें धोखा देने वाले कुछ देशद्रोहियों की वजह से उन्हें और ताकत मिली है।’’

उन्होंने कहा कि यह निष्ठा और परंपरा का मामला है।

इस साल जून में शिवसेना में एकनाथ शिंदे गुट के विद्रोह के बाद ठाकरे नीत महा विकास आघाड़ी सरकार गिर गई। महा विकास आघाड़ी गठबंधन में शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और कांग्रेस शामिल थीं। बाद में शिंदे ने मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली और भाजपा के देवेंद्र फडणवीस ने उपमुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली।

बुधवार को शिवसेना के एक कार्यक्रम में ठाकरे ने कहा था कि वार्षिक दशहरा रैली शिवाजी पार्क में होगी। ठाकरे गुट के नेता अजय चौधरी ने भी कहा कि रैली उसी स्थान पर होगी।

उन्होंने कहा, ‘‘जब (ठाकरे) साहब ने कहा कि दशहरा रैली शिवतीर्थ (शिवाजी पार्क के लिए पार्टी द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द) में होगी, तो यह शिवतीर्थ पर होनी चाहिए। चाहे आप अनुमति दें या इनकार करें, यह शिवतीर्थ पर ही होगी।’’

भाषा सुरभि ब्रजेन्द्र

ब्रजेन्द्र

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)