सिखों के पांचवें गुरु अर्जुन देव : मानव सेवा में लगाया संपूर्ण जीवन, सम्राट अकबर भी हो गया था नतमस्तक | Arjun Dev, the fifth Guru of the Sikhs: Entire life spent in human service

सिखों के पांचवें गुरु अर्जुन देव : मानव सेवा में लगाया संपूर्ण जीवन, सम्राट अकबर भी हो गया था नतमस्तक

सिखों के पांचवें गुरु अर्जुन देव : मानव सेवा में लगाया संपूर्ण जीवन, सम्राट अकबर भी हो गया था नतमस्तक

: , March 11, 2021 / 02:34 PM IST

सिखों के पांचवें गुरु अर्जुन देव, सिख धर्म के पहले शहीद थे। हर वर्ष 16 जून को गुरु अर्जन देव की शहादत का स्मरण किया जाता है। 1606 ईस्वी के बाद से ही 16 जून को उनका स्मरण किया जाता है। गुरु अर्जन देव को मानवता का सच्चा सेवक माना जाता है। धर्म की रक्षा करने लिए पहचाने जाने वाले अर्जुन देव, शांत और गंभीर स्वभाव के थे। अर्जुन देव देव दिन-रात संगत की सेवा में लगे रहते थे। उनके मन में सभी धर्मों के प्रति अथाह सम्मान था। उनकी शहादत सिख धर्म के इतिहास का एक महत्वपूर्ण मोड़ था।

ये भी पढ़ें- सनातन धर्म का प्रतीक है शंख, इससे निकली ध्वनि से शुद्ध हो जाता है व…

अर्जुन देव जी गुरु राम दास के सुपुत्र थे। उनकी माता का नाम बीवी भानी जी था। गोइंदवाल साहिब में उनका जन्म 15अप्रैल 1563को हुआ और विवाह 1579 ईसवी में हुआ । सिख संस्कृति को गुरु जी ने घर-घर तक पहुंचाने के लिए अथाह प्रयत्‍‌न किए। गुरु दरबार की सही निर्माण व्यवस्था में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा है। 1590ई. में तरनतारनके सरोवर की पक्की व्यवस्था भी उनके प्रयास से हुई।

ग्रंथ साहिब के संपादन को लेकर कुछ असामाजिक तत्वों ने अकबर बादशाह के पास यह शिकायत की कि ग्रंथ में इस्लाम के खिलाफ लिखा गया है, लेकिन बाद में जब अकबर को वाणी की महानता का पता चला, तो उन्होंने भाई गुरदास एवं बाबा बुढ्ढाके माध्यम से 51मोहरें भेंट कर खेद ज्ञापित किया। जहांगीर ने लाहौर जो की अब पाकिस्तान में है, में 16 जून 1606 को अत्यंत यातना देकर उनकी हत्या करवा दी थी।

ये भी पढ़ें- श्रीराम ने भी की थी दशानन की प्रशंसा, भक्ति से प्रसन्न होकर भगवान श…

शांत स्वभाव के धनी अर्जुन देव जी

गुरु जी शांत और गंभीर स्वभाव के स्वामी थे। वे अपने युग के सर्वमान्य लोकनायक थे, जो दिन-रात संगत सेवा में लगे रहते थे। उनके मन में सभी धर्मो के प्रति अथाह स्नेह था। मानव-कल्याण के लिए उन्होंने आजीवन शुभ कार्य किए।

अकबर के देहांत के बाद जहांगीर दिल्ली का शासक बना। वह कट्टर-पंथी था। अपने धर्म के अलावा, उसे और कोई धर्म पसंद नहीं था। गुरु जी के धार्मिक और सामाजिक कार्य भी उसे सुखद नहीं लगते थे। कुछ इतिहासकारों का यह भी मत है कि शहजादा खुसरो को शरण देने के कारण जहांगीर, गुरु जी से नाराज था। 15 मई, 1606 ईस्वी को बादशाह ने गुरु जी को परिवार सहित हिरासत में लेने का हुक्म जारी किया। जानकारी के मुाबिक उनका परिवार मुरतजाखान के हवाले कर घर बार लूट लिया गया। अनेक कष्ट झेलते हुए गुरु जी शांत रहे, उनका मन एक बार भी कष्टों से नहीं घबराया।

तपता तवा उनके शीतल स्वभाव के सामने सुखदाईबन गया। तपती रेत ने भी उनकी निष्ठा भंग नहीं की। गुरु जी ने प्रत्येक कष्ट हंसते-हंसते झेलकर यही अरदास की-

तेरा कीआ मीठा लागे॥ हरि नामु पदारथ नानक मांगे॥

 

गुरु अर्जुन देव जी की रचनाएं-

गुरु अर्जुन देव जी द्वारा रचित वाणी ने भी संतप्त मानवता को शांति का संदेश दिया। सुखमनी साहिब उनकी अमर-वाणी है। करोड़ों प्राणी दिन चढ़ते ही सुखमनी साहिब का पाठ कर शांति प्राप्त करते हैं। सुखमनी साहिब में चौबीस अष्टपदी हैं। सुखमनी साहिब राग गाउडी में रची गई रचना है। यह रचना सूत्रात्मक शैली की है। इसमें साधना, नाम-सुमिरन तथा उसके प्रभावों, सेवा और त्याग, मानसिक दुख-सुख एवं मुक्ति की उन अवस्थाओं का उल्लेख किया गया है, जिनकी प्राप्ति कर मानव अपार सुखोंकी उपलब्धि कर सकता है। सुखमनी शब्द अपने-आप में अर्थ-भरपूर है। मन को सुख देने वाली वाणी या फिर सुखों की मणि इत्यादि।

सुखमनीसुख अमृत प्रभु नामु।

भगत जनां के मन बिसरामु॥

सुखमनी साहिब सुख का आनंद देने वाली वाणी है। सुखमनी साहिब मानसिक तनाव की अवस्था का शुद्धीकरण भी करती है। प्रस्तुत रचना की भाषा भावानुकूलहै। सरल ब्रजभाषा एवं शैली से जुडी हुई यह रचना गुरु अर्जुन देव जी की महान पोथी है।

ये भी पढ़ें- ब्रम्हा की तपोभूमि है नर्मदा नदी पर स्थित बरमान घाट, कण-कण में व्या…

गुरु अर्जुन देव जी की वाणी की मूल- संवेदना प्रेमाभक्तिसे जुड़ी है। गुरमति-विचारधाराके प्रचार-प्रसार में गुरु जी की भूमिका को भुलाया नहीं जा सकता। गुरु जी ने पंजाबी भाषा साहित्य एवं संस्कृति को जो अनुपम देन दी, उसका शब्दों में वर्णन नहीं किया जा सकता। इस अवदान का पहला प्रमाण ग्रंथ साहिब का संपादन है। इस तरह जहां एक ओर लगभग 600वर्षो की सांस्कृतिक गरिमा को पुन:सृजित किया गया, वहीं दूसरी ओर नवीन जीवन-मूल्यों की जो स्थापना हुई, उसी के कारण पंजाब में नवीन-युग का सूत्रपात भी हुआ।

गुरु जी के शहीदी पर्व पर उन्हें याद करने का अर्थ है, उस धर्म- निरपेक्ष विचारधारा को मान्यता देना, जिसका समर्थन गुरु जी ने आत्म-बलिदान देकर किया था। उन्होंने संदेश दिया था कि महान जीवन मूल्यों के लिए आत्म-बलिदान देने को सदैव तैयार रहना चाहिए, तभी कौम और राष्ट्र अपने गौरव के साथ जीवंत रह सकते हैं। सिखों के दस गुरू हैं।

 

#HarGharTiranga