सेना के जवानों के लिए ‘वन रैंक, वन पेंशन’ तब लागू हुई, जब मोदी आया : प्रधानमंत्री |

सेना के जवानों के लिए ‘वन रैंक, वन पेंशन’ तब लागू हुई, जब मोदी आया : प्रधानमंत्री

सेना के जवानों के लिए ‘वन रैंक, वन पेंशन’ तब लागू हुई, जब मोदी आया : प्रधानमंत्री

:   Modified Date:  May 25, 2024 / 05:35 PM IST, Published Date : May 25, 2024/5:35 pm IST

(तस्वीर के साथ)

गाजीपुर (उप्र), 25 मई (भाषा) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को पूर्ववर्ती सरकार पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि काम लटकाने और हक मारने में तो कांग्रेस को महारत हासिल है और इन्होंने हमारी सेना के वीर जवानों को ‘वन रैंक, वन पेंशन’ तक नहीं मिलने दिया।

उन्होंने कहा कि सेना के जवानों के लिए ‘वन रैंक, वन पेंशन’ तब लागू हुई, जब मोदी आया।

प्रधानमंत्री मोदी शनिवार को गाजीपुर में भारतीय जनता पार्टी प्रत्याशी के समर्थन में चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे।

गाजीपुर को सैनिकों की धरती बताते हुए मोदी ने कहा, ‘‘गाजीपुर की धरती पराक्रम और शौर्य की गाथाएं बताती है। गाजीपुर की परंपरा और यहां का गमहर गांव… ये नाम ही काफी है, जहां हर घर से जांबाज निकलते हों… ये गौरव गाजीपुर के अलावा किसी को मिला है क्या… पूरा देश इस मिट्टी का ऋणी है।’’

विपक्षी दल समाजवादी पार्टी पर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा, ‘‘सपा के ‘शहजादे’ ने कभी कहा था कि माफिया की ‘इंट्री’ पर रोक लगाएंगे…और फिर वह माफिया के ही चरणों में जाकर बैठ गए। सपा ने माफियाओं को पाला पोसा और उन्हें टिकट दिया।’’

उन्होंने दावा किया, ‘‘सपा के दौर में प्रदेश में ये हाल था कि माफिया लालबत्ती में घूमते थे, खुली जीप में कानून को चेतावनी देते थे। विरोधियों को खुलेआम गोलियों से भून दिया जाता था। दंगों को उप्र की पहचान बना दिया गया था। सपा की सरकार में हर महीने 2-3 दंगे होते थे। इसका नुकसान गरीबों को होता था। अब योगी सरकार में दंगे भी बंद हैं और दंगाई भी बंद हैं।’’

गाजीपुर लोकसभा सीट पर 10 उम्मीदवार मैदान में हैं। मुख्य चुनावी मुकाबला समाजवादी पार्टी के अफजाल अंसारी और भाजपा के पारसनाथ राय के बीच है।

लोकसभा चुनाव के सातवें चरण में एक जून को गाजीपुर लोकसभा सीट पर मतदान होगा।

भाषा जफर शफीक

शफीक

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Flowers