अल्बनीज चले क्वाड, आस्ट्रेलिया की नयी सरकार के सामने क्या हैं सुरक्षा चुनौतियां |

अल्बनीज चले क्वाड, आस्ट्रेलिया की नयी सरकार के सामने क्या हैं सुरक्षा चुनौतियां

अल्बनीज चले क्वाड, आस्ट्रेलिया की नयी सरकार के सामने क्या हैं सुरक्षा चुनौतियां

:   November 29, 2022 / 08:51 PM IST

ग्रेग बार्टन, डीकिन विश्वविद्यालय

जिलॉन्ग, 24 मई (द कन्वरसेशन) मौसम की शदीद दुश्वारियां अब सामान्य हैं। व्लादिमीर पुतिन की रूसी सेना द्वारा परमाणु हथियारों का इस्तेमाल अब कल्पना से परे की संभावना है। और शी जिनपिंग का चीन, हमारा सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार और उभरती महाशक्ति, अपने पंख समेट रहा है।

इसलिए इस सप्ताह टोक्यो में क्वाड सुरक्षा वार्ता में भाग लेने वाले हमारे 31वें प्रधानमंत्री के लिए कोई दबाव नहीं है।

नये प्रधान मंत्री एंथनी अल्बनीज़ और विदेश मंत्री पेनी वोंग के सामने तत्काल चुनौती सहयोगियों और दोस्तों को सरकार के बने रहने के प्रति आश्वस्त करना है। लेकिन इससे भी अधिक, सरकार का परिवर्तन आस्ट्रेलिया की दूरदर्शी नेतृत्व और विनम्रता की क्षमता में एक बार फिर विश्वास पैदा करने का अवसर प्रस्तुत करता है।

क्वाड क्या है?

क्वाड में भारत, जापान, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया शामिल हैं। यह 2007 में जॉर्ज डब्ल्यू बुश और जॉन हॉवर्ड के समय शुरू हुआ, लेकिन केविन रुड के समय में, ऑस्ट्रेलिया ने चीन के प्रति अमेरिका के दृष्टिकोण के बारे में चिंताओं के कारण इससे अपने कदम पीछे खींच लिए।

प्रधान मंत्री टर्नबुल ने 2017 में व्यवस्था को पुनर्जीवित किया क्योंकि दक्षिण चीन सागर में चीन के सैन्य विस्तार के बारे में चिंताएं बढ़ गईं। मार्च 2021 में क्वाड नेताओं ने एक संयुक्त बयान ‘‘द स्पिरिट ऑफ द क्वाड’’ जारी किया, जिसने ‘‘पूर्व और दक्षिण चीन सागर में नियम-आधारित समुद्री व्यवस्था’’ की बात की, जिसने एक ‘‘स्वतंत्र और खुले हिंद-प्रशांत’’ का समर्थन किया।

इस सप्ताह की बैठकों में, जापान और भारत उन संकेतों की तलाश करेंगे जिनपर ऑस्ट्रेलिया एशिया के साथ जुड़ने के लिए गंभीर है। एशिया के साथ गहरे और लंबे समय से स्थापित संबंधों वाला एक और पुराना दोस्त, फ्रांस नये सिरे से संकेतों की तलाश करेगा। अमेरिका अपनी अपेक्षाओं की समीक्षा करेगा कि ऑस्ट्रेलिया, एक लेबर सरकार के तहत, क्वाड सुरक्षा संवाद और एयूकेयूएस त्रिपक्षीय सुरक्षा संधि दोनों में क्या योगदान करने के लिए तैयार है।

अल्बनीज़ और वोंग अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन के साथ बहुत कुछ साझा करते हैं। इस सप्ताह टोक्यो में उनकी आमने-सामने की बैठकों में चीन और हिंद-प्रशांत के प्रति सहयोगियों के दृष्टिकोण को डोनाल्ड ट्रम्प और स्कॉट मॉरिसन के समय की हर संभावना से परे नये सिरे से निर्धारित करने की क्षमता है।

चीन का सवाल

हमारे समय की सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक चीन और पश्चिम के बीच संबंधों में गिरावट को उलटना है। न केवल रक्षा और सुरक्षा, या व्यापार और अर्थव्यवस्था के लिए, बल्कि जलवायु परिवर्तन के लिए वैश्विक प्रतिक्रिया, और चीनी समाज के भविष्य और 1.4 अरब लोगों के जीवन के लिए भी दांव बहुत बड़ा है।

बाइडेन और ब्लिंकन भी ऐसे संकेतों की तलाश में होंगे कि क्या नई अल्बनीज लेबर सरकार एयूकेयूएस के लिए उतनी ही प्रतिबद्ध है जितनी मॉरिसन सरकार थी। वोंग के साथ नए अवसर

दशकों से, एशिया के साथ ऑस्ट्रेलिया के जुड़ाव में आवश्यक वित्तीय, राजनीतिक और सामाजिक पूंजी के निरंतर निवेश का अभाव रहा है। अल्बनीज का कहना है कि वह इसे बदलना चाहते हैं, इंडोनेशिया को अपनी सरकार के लिए एक प्रमुख प्राथमिकता के रूप में देखते हुए।

ग्रह पर सबसे बड़ी और सबसे तेजी से विकसित हो रही अर्थव्यवस्थाओं और समाजों के किनारे पर रहने के बावजूद, ऑस्ट्रेलिया वास्तव में एशिया के साथ जुड़ने के बारे में बहुत आलसी, अदूरदर्शी और कंजूस रहा है। चीनी व्यापार प्रतिबंधों के साथ हमारे मौजूदा संकट चीन और शेष एशिया दोनों के साथ अधिक व्यापक रूप से जुड़ने में विफलता की ओर इशारा करते हैं।

पेनी वोंग के तहत, विदेश मामलों और व्यापार विभाग में ऑस्ट्रेलिया के व्यापक सुरक्षा हितों को सुरक्षित रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की क्षमता है। वोंग की व्यक्तिगत पृष्ठभूमि, साथ ही साथ उनकी दुर्जेय बुद्धि, एशिया के साथ हमारे जुड़ाव में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

नए रक्षा मंत्री के सामने चुनौतियां

रूस द्वारा यूक्रेन पर चौंकाने वाला आक्रमण, और युद्ध के अप्रत्याशित घटनाक्रम में ऑस्ट्रेलिया के लिए कई सबक हैं। पहला सबक नाटो और यूरोपीय संघ जैसे अंतरराष्ट्रीय गठबंधनों और संस्थानों के महत्व को स्वीकार करना है। यूक्रेन पर रूस के आक्रमण से पहले, नाटो और यूरोपीय संघ की आलोचना करना और उनकी उपयोगिता और सार पर सवाल उठाना आसान था। अब नहीं है।

कूटनीति, विश्वास और संबंध-निर्माण रक्षा और सुरक्षा के लिए उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि टैंक, ट्रक और विमान।

यूक्रेन से अन्य सबक

ऑस्ट्रेलिया का अगला रक्षा श्वेत पत्र, जो 2023 में जारी होने की संभावना है, चीन के उदय और रूस के पतन दोनों से आकार लेने वाला है। यूक्रेन में युद्ध के अनुभव, साजो-सामान की महत्वपूर्ण भूमिका, टैंक जैसे कुछ प्रकार के उपकरणों की उपयोगिता और संगठनात्मक संस्कृति के प्रभाव का बारीकी से अध्ययन किया जाएगा।

इन सबके बीच ऑस्ट्रेलिया के लिए चुनौतियां भी हैं और बेहतरीन मौके भी। यह पहले से ही स्पष्ट है कि यूक्रेन की रक्षा में खुफिया, आईटी और ड्रोन ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। ऑस्ट्रेलिया के पास राष्ट्रीय और क्षेत्रीय सुरक्षा दोनों के लाभ के लिए संबंधित महत्वपूर्ण प्रणालियों, हार्डवेयर और प्रौद्योगिकी को विकसित करने की पर्याप्त क्षमता है।

यह बताने की जरूरत नहीं है कि ऑस्ट्रेलिया को युद्ध के लिए तैयार होने और युद्ध से बचने के लिए वह सब कुछ करने की जरूरत है जो वह संभवतः कर सकता है। इसमें कूटनीति और संबंध निर्माण का बहुत बड़ा हाथ होगा।

राष्ट्र और क्षेत्र सुरक्षा पर नेतृत्व के लिए नई ऑस्ट्रेलियाई सरकार को देख रहे हैं।

द कन्वरसेशन एकताा

एकता

एकता

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Flowers