यहां रेपिस्ट को सजा नहीं मजा मिलता है, क्यों लिया जाता हैं इन्हें हाथोंहाथ…जानिए वजह

rapists are not punished : दुनिया के हर देश में दुष्कर्म को जुर्म माना जाता है और इसके लिए सभी देशों में अलग- अलग सजाएं होती है। इस जुर्म के

Edited By: , May 21, 2022 / 02:21 PM IST

why rapists are not punished : दुनिया के हर देश में दुष्कर्म को जुर्म माना जाता है और इसके लिए सभी देशों में अलग-अलग सजाएं होती है। इस जुर्म के दोषी को सभी जगह कड़ी सजा देने का प्रवधान है। सभी देशों में इस जुर्म के लिए कड़ी सजा का प्रवधान है, तो दुनिया में एक ऐसा देश भी है जहां दुष्कर्म करने वाले आरोपी को सजा देने की जगह बंगला और सुविधाएं दी जाती है। इस बंगले में आरोपी अपने परिवार के साथ सुकून की जिंदगी बिता सकता है।

यह भी पढ़े : कांग्रेस के लखमा बोले, हमारी सड़कें हेमा मालनी के गालों जैसी

20 एकड़ में फैला है मिरेकल विलेज

हम बात कर रहे हैं फ्लोरिडा के आउटस्कर्ट्स में बसे मिरेकल विलेज की। ये एक छोटा सा गांव है जो करीब बीस एकड़ में फैला है। इसे 2009 में उन लोगों के लिए बसाया गया था जो दुष्कर्म के जुर्म में दोषी पाए गए थे। यहां वो अपने परिवार के साथ आराम से रह सकते हैं। कहा जाता है कि, ये अमेरिका में यौन उत्पीड़न के आरोपियों की सबसे बड़ी कम्युनिटी है।>>*IBC24 News Channel के WhatsApp  ग्रुप से जुड़ने के लिए Click करें*<<

यह भी पढ़े : ज्ञानवापी शिवलिंग विवाद में प्रोफेसर की गिरफ्तारी से मचा बवाल, DU में छात्रों ने किया हंगामा 

खुशी-खुशी रहते हैं दो सौ आरोपी

इस गांव में दुष्कर्म के करीब दो सौ आरोपी अपने परिवार के साथ खुशी-खुशी रह रहें हैं। इनमें से कुछ को पुलिस ने वहां बसाया है और कुछ को उनके परिवार वालों ने छोड़ दिया हैं। इन लोगों को रहने के लिए कहीं जगह मिल रही थी ना कोई उन्हें इज्जत से देखता था। ऐसे में इस गांव में उन्हें रहने के लिए एक घर मिला और यहां वो अपने जुर्म के लिए हर दिन पश्चाताप करते हैं।

यह भी पढ़े : सरकारी नौकरी : आत्मानंद स्कूल में शिक्षक के पदों पर निकली भर्ती, उम्मीदवार ऐसे कर सकते हैं आवेदन

गांव को बसाने वाले पादरी ने बताई वजह

मिरेकल विलेज गन्ने के खेतों के पास बनाया गया है और इसे घरेलू नौकरों का काम करने वालों के लिए 1960 में बनाया गया था। इसे बसाने वाले पादरी डिक इथेरो के मुताबिक़, फ्लोरिडा में यौन उत्पीड़न के आरोपियों के लिए घर मिलना नामुमकिन है। नियम के मुताबिक़, ये आरोपी ऐसे किसी एरिया में नहीं रह सकते, जहां एक हजार फीट की रीच में स्कूल, प्लेग्राउंड, पार्क या बच्चों से जुड़ी कोई भी चीज मौजूद हो। ऐसे में इन आरोपियों को घर नहीं मिल पाता।

यह भी पढ़े : शैलेश लोढ़ा ने छोड़ा ‘तारक मेहता.., इस नए शो में करेंगे नई पारी की शुरूआत, देखें टीजर

वोटिंग सिस्टम से मिलता है बंगला

बीस एकड़ में फैले मिरेकल विलेज में बहुत कम घर है। इसलिए इस गांव में किसे बंगला दिया जाए और किसे नहीं, ये वोटिंग सिस्टम पर निर्भर करता है।
यहां रहने वाले लोगों को कई तरह के क्लासेस दिए जाते हैं। साथ ही इनके लिए कई तरह के प्रोग्राम भी चलाए जाते हैं। यहां रहने वाले ज्यादातर लोग आस-पास में ही जॉब करते हैं, जिससे उनका खर्चा निकलता है। साथ ही जिस पादरी ने इस गांव को बसाया है, वो हर हफ्ते उन्हें सच्चे मार्ग पर चलने के लिए बाइबल की क्लासेस देता है। लोग आराम से यहां अपनी जिंदगी बिता रहे हैं और खुश हैं।