जेलेंस्की ने रूसी सेना पर जीत का दावा किया

जेलेंस्की ने रूसी सेना पर जीत का दावा किया

: , May 28, 2022 / 12:29 PM IST

कीव, 28 मई (एपी) यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने शुक्रवार को अपने दो संबोधनों में देश के पूर्वी हिस्से में हुई सबसे भीषण लड़ाई और यूक्रेन युद्ध में रूसी सेना पर आखिरकार जीत दर्ज करने की घोषणा की।

उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के छात्रों को संबोधित किया और कहा, ‘‘यूक्रेन एक ऐसा देश है, जिसने रूसी सेना की असाधारण शक्ति के मिथक को तोड़ दिया है। एक ऐसी सेना, जिसके बारे में माना जाता था कि वह कुछ ही दिनों में किसी को भी हरा सकती है।’’

जेलेंस्की ने कहा, ‘‘अब रूस पूरे देश पर कब्जा करने की कोशिश कर रहा है, लेकिन हम यूक्रेन के भविष्य के बारे में सोचने के लिए काफी मजबूत स्थिति में हैं, जो पूरी दुनिया के लिए खुला रहेगा।’’

बाद में राष्ट्र के नाम दिए वीडियो संबोधन में जेलेंस्की ने दोनेत्स्क के पूर्वी शहर लाइमैन और लुगांस्क में यूक्रेन के नियंत्रण वाले अंतिम क्षेत्रों में से एक सिविएरोदोनेत्स्क को घेरने तथा उस पर कब्जा करने के रूसी प्रयासों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘‘दोनेत्स्क क्षेत्र के इस शहर का बड़ा रेलवे हब और दो अन्य प्रमुख शहर अब भी यूक्रेन के नियंत्रण में हैं।’’

यूक्रेनी राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘अगर कब्जा करने वालों को लगता है कि लाइमैन या सिविएरोदोनेत्स्क उनके होंगे तो वे गलत हैं। डोनबास यूक्रेन का ही रहेगा।’’

अन्य घटनाक्रम :

कीव, यूक्रेन – लुहान्स्क क्षेत्र के गवर्नर सेरही हैदई ने शुक्रवार को रूस के उन दावों का खंडन किया, जिनमें कहा गया है कि रूसी सेना ने पूर्वी शहर सिविएरोदोनेत्स्क को घेर लिया है। हालांकि, उन्होंने माना कि यूक्रेनी सैनिकों को पीछे हटना पड़ सकता है। हैदई ने शुक्रवार को टेलीग्राम पर लिखा कि रूसियों ने एक होटल और बस अड्डे पर कब्जा कर लिया है।

रोम – इटली के प्रधानमंत्री मारियो द्राघी ने शुक्रवार को यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की से फोन पर बात की और उन्हें ‘‘यूरोपीय संघ (ईयू) के सहयोग से इतालवी सरकार के पूर्ण समर्थन का आश्वासन दिया।’’

इससे पहले, द्राघी ने बृहस्पतिवार को रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ बंदरगाहों को खोलने से संबंधित एक समझौते को लेकर बात की थी। उन्होंने पुतिन से कहा था कि अगर समझौते को मंजूरी नहीं दी जाती है तो यूक्रेन के बंदरगाहों पर मौजूद कई लाख टन अनाज के सड़ने का खतरा है।

द्राघी से बातचीत में जेलेंस्की ने संकट के समाधान के लिए इटली द्वारा किए जा रहे प्रयासों की प्रशंसा की।

मॉस्को – रूस के दक्षिणी प्रांत चेचन्या के क्रेमलिन समर्थित नेता ने एक वीडियो जारी कर चेतावनी दी है कि यूक्रेन के बाद अगला निशाना पोलैंड हो सकता है।

रमजान कादिरोव ने अपने आधिकारिक टेलीग्राम पेज पर साझा किए गए वीडियो में कहा है कि यूक्रेन का ‘‘काम तमाम हो गया है’’ और अगर अगला आदेश दिया गया तो हम छह सेकंड में आपको (पोलैंड) दिखा देंगे कि आप क्या हैं।

पोलैंड की सीमा यूक्रेन से लगती है और उसने अपने पड़ोसी को हथियार व अन्य सहायता प्रदान की है। पोलैंड ने लाखों यूक्रेनी शरणार्थियों को शरण भी दी है।

मॉस्को – रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा है कि जहाजों की सुरक्षित आवाजाही की अनुमति देने के लिए यूक्रेन को अपने बंदरगाहों के पास के क्षेत्रों से समुद्री खदानों को हटा देना चाहिए।

पुतिन ने ऑस्ट्रिया के चांसलर कार्ल नेहमर के साथ शुक्रवार हुई बातचीत में ‘‘खाद्य सुरक्षा के मुद्दों पर विचारों का विस्तृत आदान-प्रदान किया।’’ उन्होंने पश्चिमी देशों के उन दावों को खारिज किया कि रूस की कार्रवाई ने वैश्विक खाद्य संकट को बढ़ा दिया है।

अमेरिका और अन्य पश्चिमी सहयोगियों ने प्रतिबंधों को हटाने की रूसी मांग को खारिज कर दिया है और मॉस्को पर यूक्रेन से वैश्विक बाजारों में अनाज की आपूर्ति को बाधित करने का आरोप लगाया है, जिससे रूस के राष्ट्रपति कार्यालय ने इनकार किया है।

लंदन – ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा है कि रूस की सेना पूर्वी यूक्रेन में ‘स्पष्ट रूप से प्रगति’ कर रही है और यूक्रेनी सेना को लंबी दूरी के रॉकेट लांचर व अन्य सैन्य सहायता की आवश्यकता है।

ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि मॉस्को के सैनिकों ने हाल ही में कई गांवों पर कब्जा कर लिया है, क्योंकि वे पूर्वी डोनबास क्षेत्र में सिविएरोदोनेत्स्क और लिसिचन्स्क को घेरने का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन अब तक इस क्षेत्र पर उनका पूर्ण नियंत्रण नहीं हुआ है।

इस्तांबुल : तुर्की के विदेश मंत्री ने कहा है कि नाटो की सदस्यता के लिए तुर्की की आपत्तियों को दूर करने के लिए स्वीडन और फिनलैंड को अब उनके देश की सुरक्षा चिंताओं को दूर करने की खातिर ‘‘ठोस कदम’’ उठाने चाहिए।

स्वीडन और फिनलैंड को नाटो की सदस्यता दिलाने के लिए संगठन के सभी सदस्य देशों के समर्थन की आवश्यकता है, लेकिन तुर्की उनका विरोध कर रहा है। तुर्की ने कुर्द लड़ाकों के लिए इन देशों के कथित समर्थन का हवाला दिया है, जिन्हें वह आतंकवादी मानता है। उसने तुर्की को हथियारों की बिक्री पर लगे प्रतिबंध का भी हवाला दिया है।

बर्लिन – जर्मनी के विकास मंत्री स्वेंजा शुल्ज ने शुक्रवार को यूक्रेन की यात्रा की। इस दौरान उन्होंने यूक्रेन को अधिक समर्थन देने और देश के पुनर्निर्माण पर चर्चा की।

रूसी आक्रमण शुरू होने के बाद से शुल्ज यूक्रेन की यात्रा करने वाले दूसरे जर्मन मंत्री हैं। इससे पहले, जर्मन विदेश मंत्री एनालेना बेरबॉक ने 10 मई को यूक्रेन की यात्रा की थी और कीव में देश के दूतावास को फिर से खोल दिया था।

शुल्ज के मंत्रालय ने कहा कि उनकी शुक्रवार को कीव में प्रधानमंत्री डेनिस शमीहाल और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से मिलने की योजना है।

शुल्ज ने एक बयान जारी कर कहा, ‘‘हमें पहले से ही एक स्वतंत्र ए‍वं लोकतांत्रिक यूक्रेन के पुनर्निर्माण के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समन्वित सहयोग की नींव रखनी चाहिए और जर्मनी इसमें योगदान देगा।’’

मॉस्को – रूस के विदेश मंत्रालय ने घोषणा की है कि वह रूस के राजनयिक मिशन में कमी लाने के लिए क्रोएशिया द्वारा उठाए गए ‘‘गैर मित्रवत कदम’’ के जवाब में पांच क्रोएशियाई राजनयिकों को निष्कासित कर रहा है।

मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा कि उसने शुक्रवार को क्रोएशिया के राजदूत टोमिस्लाव कार को तलब किया और इस कदम की जानकारी दी। पिछले महीने क्रोएशिया ने 18 रूसी राजनयिकों को निष्कासित कर दिया था।

—-

मॉस्को – रूस के एक कम्युनिस्ट नेता ने यूक्रेन के खिलाफ सैन्य अभियान को समाप्त करने और कीव से रूसी सेना की वापसी की मांग की है।

लियोनिद वासुकेविच ने शुक्रवार को व्लादिवोस्तोक के प्रशांत बंदरगाह में प्रिमोर्स्क क्षेत्रीय विधान सभा की एक बैठक में कहा, ‘‘मेरा मानना है कि अगर हमारा रूस सैन्य अभियान को नहीं रोकता है तो हमारे देश में और अधिक लोग अनाथ होंगे।’’

एपी सुरभि पारुल

पारुल

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)