IBC24 Bhuyan ke Bhagwan : Organic product gave new identity

IBC24 भुइंया के भगवान 2022 : जैविक उत्पाद ने वेदेश्वरी को दी नई पहचान, सरकार की योजना ने सपनों को दी नई उड़ान, IBC24 ने किया सम्मानित

देश में जैविक खेती को प्रोत्साहन देने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों की ओर से कई योजनाएं किसानों के लाभार्थ चलाई जा रही है। सरकार की ओर जैविक खेती के लिए प्रशिक्षण भी प्रदान किया जाता है।

Edited By: , November 29, 2022 / 08:20 AM IST

IBC24 Bhuyan ke Bhagwan 2022 : रायपुर – देश में जैविक खेती को प्रोत्साहन देने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों की ओर से कई योजनाएं किसानों के लाभार्थ चलाई जा रही है। सरकार की ओर जैविक खेती के लिए प्रशिक्षण भी प्रदान किया जाता है। इसका लाभ उठाकर कई किसान जैविक खेती कर रहे हैं। सरकार भी चाहती है कि फसलों में कम से कम रासायनिक उर्वरकों व कीटनाशकों का प्रयोग हो और जैविक तरीके अपनाकर फसलों में प्राकृतिक खाद जैसे- केंचुआ खाद, गोबर खाद का उपयोग किया जाए ताकि फसल भी अच्छी हो और स्वास्थ्य के लिहाज से भी सुरक्षित हो।>>*IBC24 News Channel के WHATSAPP  ग्रुप से जुड़ने के लिए  यहां CLICK करें*<<

read more : “पायलट को सीएम बनाना मतलब बीजेपी को राज्य सौंपना”, गहलोत के मंत्री ने ऐसा क्यों कहा? जानें वजह 

IBC24 Bhuyan ke Bhagwan 2022 : जैविक खेती के लिए अपनी अलग पहचान बनाने वाली वेदेश्वरी शर्मा को आईबीसी 24 भुईंया के भगवान ने एक मंच दिया है। वेदेश्वरी आज किसानों के लिए जैविक खेती करने के लिए प्रेरणा की स्त्रोत बन चुकी है। महिला शक्ति का परचम लहराते हुए वेदेश्वरी ने जैविक खेती में विजय पताका का लहराया है। सरकार की योजनाओं को हथियार बनाते हुए जैविक खेती को महत्व दिया। इसके साथ ही किसानों को जैविक खेती के लिए जागरूक और प्रेरित किया है। अपनी कामयाबी और उमंग के कारण वेदेश्वरी को इस वर्ष आईबीसी 24 भुईंया के भगवान सम्मान 2022 से सम्मानित किया गया।

read more : आज है इस भोजपुरी सुपरस्टार की बेटी का जन्मदिन, भावुक होकर कहा- “जुग-जुग जिए बिटिया रानी” 

IBC24 Bhuyan ke Bhagwan 2022 : कोण्डागांव की वेदेश्वरी शर्मा…जिनकी पहचान एक सशक्त और सफल महिला उद्यमी होने के साथ-साथ जैविक उत्पादों की जनक के तौर पर भी पहचानी जाती हैं। कामधेनु गौशाला बड़ेकनेरा की संचालिका वेदेश्वरी ने 2010 में गौसेवा का लक्ष्य लेकर गौशाला की शुरूआत की जहां आज करीब 400 से ज्यादा गौवंश पालन जारी है। इस गौशाला संचालने में जिले की 100 से ज्यादा महिलाओं ने रोजगार भी पाया। इस गौशाला में गाय के गोबर, गौमूत्र से खाद बनाकर जैविक खेती में उसका प्रयोग किया जा रहा है। वेदेश्वरी खुद खुले मन से कहती हैं,भूपेश सरकार के साथ ने उनके सपनों को नई उड़ान दी है। वैज्ञानिक सोच और महिला सशक्तिकरण के बूते। भविष्य का भारत गढ़ती वेदेश्वरी शर्मा को IBC24 भुंईया के भगवान सम्मान 2022 प्रदान करते हुए हम गर्व का अनुभव कर रहे हैं।

और भी लेटेस्ट और बड़ी खबरों के लिए यहां पर क्लिक करें