Dimple Yadav filed nomination can get sympathy regarding Mulayam death

Mainpuri bypoll 2022: लोकसभा की इस सीट पर क्या बहू को मिलेगी ससुर के निधन की सहानुभूति?

Mainpuri bypoll 2022, dimple yadav : उत्तर प्रदेश की राजनीति के कद्दावर नेता मुलायम सिंह यादव की बहू डिंपल यादव को क्या मैनपुरी का...

Edited By: , November 29, 2022 / 08:05 PM IST

Mainpuri bypoll 2022, dimple yadav : उत्तर प्रदेश की राजनीति के कद्दावर नेता मुलायम सिंह यादव की बहू डिंपल यादव को क्या मैनपुरी का आशीर्वाद मिलेगा? लोकसभा की इस सीट पर होने वाले उपचुनाव में डिंपल यादव के नामांकन भरने के साथ ही ये सवाल सुर्खियों में है। वैसे तो ये सीट समाजवादी पार्टी की गढ़ मानी जाती है, लेकिन जिस तरह से हाल ही में आज़मगढ़ का समाजवादी किला बीजेपी ने ध्वस्त किया है, उसे देखते हुए मैनपुरी में भी अब एकतरफ़ा चुनावी टक्कर नहीं मानी जा रही है।

आज़मगढ़ में मशहूर भोजपुरी कलाकार और बीजेपी के उम्मीदवार दिनेश लाल निरहुआ ने जिस तरह कांटे के मुक़ाबले में मुलायम परिवार के समाजवादी उम्मीदवार धर्मेंद्र यादव को 8679 वोटों से हराया था, उसने समाजवादी पार्टी में खलबली मचा रखी है। अब मैनपुरी में पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव के नामांकन भरने के साथ ही ये प्रतिष्ठा की लड़ाई बन गई है।

Mainpuri bypoll 2022, dimple yadav: समाजवादी पार्टी उम्मीदवार डिंपल यादव ने सोमवार दोपहर डेढ़ बजे मैनपुरी कलेक्ट्रेट पहुंचकर अपना नामांकन भरा। डिंपल के साथ मैनपुरी के पूर्व सांसद और मुलायम परिवार के ही सदस्य तेजप्रताप यादव, समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव प्रोफेसर रामगोपाल यादव भी मौजूद थे, लेकिन शिवपाल सिंह यादव की गैरमौजूदगी को लेकर एक बार फिर से सवाल उठ रहे हैं। चाचा शिवपाल और भतीजे अखिलेश के बीच लंबे वक्त से अनबन की ख़बरें आती रही हैं, बीच-बीच में सुलह-सफाई का भी दौर चलता रहा है। इस बार भी डिंपल यादव के नामांकन को लेकर रामगोपाल यादव ने ये दावा किया है कि ये नाम शिवपाल सिंह यादव की सहमति के बाद ही तय किया गया है। अनुमान लगाया जा रहा था कि नामांकन भरते वक्त पूरा यादव परिवार मौजूद रहेगा, लेकिन न तो शिवपाल सिंह यादव दिखे और न ही उनके बेटे आदित्य यादव।

Mainpuri bypoll 2022, dimple yadav: समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने हालांकि ये दावा किया कि पूरा परिवार साथ है। अखिलेश यादव ने दिवंगत मुलायम सिंह यादव को याद करते हुए कहा कि मैनपुरी में होने वाला उपचुनाव नेताजी की यादों का चुनाव होगा और समाजवादी पार्टी को यहां अब तक की सबसे बड़ी जीत मिलेगी। 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में यहां से मुलायम सिंह यादव चुने गए थे, 10 अक्टूबर को उनका निधन हो गया था, जिसके बाद ये उपचुनाव कराए जा रहे हैं। बीजेपी ने इस सीट के लिए अभी अपने उम्मीदवार के नाम की घोषणा नहीं की है, लेकिन जिन तीन नामों की अंतिम सूची बनाई गई है, उसमें प्रेम सिंह शाक्य और ममतेश शाक्य का नाम चर्चा में है।