छत्तीसगढ़ में मिलेगा ‘दाऊजी‘ ब्रांड का मखाना, सीएम बघेल ने की लॉन्चिंग

Makhana of 'Dauji' brand will be available in Chhattisgarh, CM Baghel launched

Edited By: , December 5, 2021 / 04:51 PM IST

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज यहां अपने निवास कार्यालय में गोधन न्याय योजना की राशि के अंतरण कार्यक्रम में रायपुर जिले के आरंग विकासखंड के ग्राम लिंगाडीह में छत्तीसगढ़ के प्रथम मखाना प्रसंस्करण केन्द्र ‘मखाना खेती, प्रसंस्करण एवं विपणन केंद्र‘ का वर्चुअल शुभारंभ किया।

पढ़ें- छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन का ‘हल्ला बोल’..13 दिसंबर को करेंगे विधानसभा का घेराव.. लगाएं हैं ये आरोप 

इस अवसर पर उन्होंने लिंगाडीह के ओजस फार्म में मखाने की खेती प्रारंभ करने वाले स्वर्गीय कृष्ण कुमार चंद्राकर दाऊ जी के नाम पर इस फार्म में उत्पादित मखाना की ‘दाऊजी‘ ब्रांड नाम से लांचिंग की।

पढ़ें- अच्छी खबर, अब EPF फंड से कर सकेंगे LIC प्रीमियम जमा, कर्मचारी भविष्‍य निधि ने नियमों में किया बदलाव

कार्यक्रम में कृषि मंत्री रविंद्र चौबे, राज्यसभा सांसद मती छाया वर्मा, राज्य खनिज विकास निगम के अध्यक्ष गिरीश देवांगन, मुख्यमंत्री के सलाहकार प्रदीप शर्मा, मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू और जनसम्पर्क आयुक्त दीपांशु काबरा, ग्राम लिंगाडीह के ‘मखाना खेती, प्रसंस्करण एवं विपणन केंद्र‘ के गजेन्द्र चंद्राकर और मखाने की खेती कर रहे ओजस फार्म की मती मनीषा चंद्राकर भी उपस्थित थीं।

पढ़ें- माइलेज 22 kmpl का.. कीमत 4 लाख से भी कम.. Maruti की Alto को सीधे टक्कर

गजेन्द्र चंद्राकर ने इस अवसर पर मखाने की खेती पर प्रस्तुतिकरण दिया। उन्होंने बताया कि लिंगाडीह के ‘मखाना खेती, प्रसंस्करण एवं विपणन केंद्र‘ द्वारा किसानों को मखाना खेती हेतु निःशुल्क तकनीकी जानकारी, मखाना प्रक्षेत्र का समय-समय पर भ्रमण कराया जाता है और खेती का प्रशिक्षण दी जाती है। इस केन्द्र द्वारा किसानों के लिए मखाना बीज की उपलब्धता के साथ-साथ मखाने की खरीदी भी की जाती है।

पढ़ें- जनवरी-फरवरी में आएगी तीसरी लहर, Omicron बनेगा कारण! जानिए विशेषज्ञों का क्या है दावा

उन्होंने बताया कि तालाब के साथ-साथ एक से डेढ़ फीट गहरे खेत में मखाने की खेती की जा सकती है। उन्होंने यह भी बताया कि मखाने की खेती से प्रति एकड़ लगभग 70 हजार रूपए का शुद्ध लाभ अर्जित किया जा सकता है। चंद्राकर ने बताया कि उनके पिता स्वर्गीय कृष्ण कुमार चंद्राकर दाऊ जी ने मखाने की खेती प्रारंभ की थी।