5G Services may Increase Sim Swap Scam Experts Alert to Users

5G आते ही जामताड़ा गैंग की न हो जाए चांदी? खाली हो सकता है एकाउंट, एक्सपर्ट ने दी चेतावनी

Edited By: , November 29, 2022 / 08:19 PM IST

नई दिल्ली: 5G Services may Increase Sim Swap Scam प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज संचार क्रांति के क्षेत्र को नई गति देने वाली 5G लॉन्च कर दी है। इसके साथ ही एयरटेल और जियो ने भी कई राज्यों और शहरों में 5जी सर्विस लॉन्च कर दी है। बताया जा रहा है कि 5जी आने के बाद यूजर्स एक मिनट में ही पूरी फिल्म डाउनलोड कर सकेंगे। लेकिन क्या आपको पता है कि 5जी के जितने फायदे हैं उतने ही इसके नुकसान भी हैं। विशेषज्ञों ने मोबाइल यूजर्स को चेतावनी दी है।

Read More: फिल्म ‘शाकुंतलम’ की रिलीज डेट टली, 4 नवंबर की जगह अब इस दिन फिल्म होगी रिलीज,जानें वजह 

5G Services may Increase Sim Swap Scam देश की एक नामी मीडिया संस्थान की रिपोट्स के अनुसार 5जी को लेकर विशेषज्ञों का कहना है कि 5G लॉन्च के बाद SIM Swap Frauds में तेजी से इजाफा हो सकता है। उन्होंने कहा कि टेलीकॉम कंपनियों को SIM Swap फ्रॉड से बचने के लिए ग्राहकों को जागरूक करने की आवश्यकता होगी क्योंकि 5G services का इस्तेमाल करने के लिए ग्राहकों को सिम कार्ड अपग्रेड करने की जरूरत होगी और हैकर्स इसका फायदा उठा सकते हैं, जिससे धोखाधड़ी की संभावना बढ़ जाएगी।

Read More: Karwa Chauth 2022: व्रत के दिन पति-पत्नी भूल से भी न करें ये काम, हो सकता है नुकसान 

दरअसल, सिम स्वैप फ्रॉड तब होता है, जब जालसाज फर्जी कॉल, फिशिंग आदि के माध्यम से किसी ग्राहक के बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं और उसी नंबर पर एक नए सिम कार्ड जारी करवाने के लिए टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर से संपर्क करने के लिए चुराई गई जानकारियों का उपयोग करते हैं। सिम कार्ड जारी होने के बाद, ग्राहक के पास पुराना सिम डीएक्टिवेट हो जाता है, और नंबर पर सभी नए कम्युनिकेशन जालसाज को प्राप्त होने लगते हैं। यह स्कैमर को बैंकिंग वन-टाइम पासवर्ड (OTP) जैसी जानकारी तक पहुंचने की अनुमति देता है, जिससे वे पीड़ित के अकाउंट से आसानी से पैसे चुरा सकते हैं। यह चोरी हुए फोन के मामले में भी हो सकता है, या तब जब अनजान ग्राहक अज्ञात लिंक पर क्लिक करते हैं, जो धोखेबाज को सिम को रिमोटली डुप्लिकेट करने और ओटीपी तक पहुंच प्राप्त करने की अनुमति देता है।

Read More: आमने-सामने हुए भारत-अमेरिका ! बाइडेन ने पुतिन को चेताया, तो भारत ने फिर दिया रूस का साथ

टेलीकॉम विभाग (DoT) ने 2016 और 2018 में अपग्रेडेशन के मामलों में नए सिम कार्ड जारी करने के लिए ग्राहकों की स्पष्ट सहमति लेने के लिए विस्तृत प्रक्रिया और कदम जारी किए। रिपोर्टों से पता चलता है कि विभाग प्रक्रिया को सुव्यवस्थित और सुरक्षित करने के लिए आगे के दिशानिर्देशों पर काम कर रहा है। डीएसके लीगल के पार्टनर ऋषि आनंद ने कहा, “टेलीकॉम कंपनियां ग्राहकों को पर्सनल और फाइनेंशियल डिटेल्स को अन-वेरिफाइड सोर्स तक पहुंचाने से रोकने के लिए जागरूकता अभियान चला सकती हैं और उन्हें SIM swap scams के मामले में उपलब्ध उपायों के बारे में सूचित कर सकती हैं।”

 

देश दुनिया की बड़ी खबरों के लिए यहां करें क्लिक