जमीन-जायदाद क्षेत्र में संस्थागत निवेश जुलाई-सितंबर तिमाही में 17 प्रतिशत बढ़कर 72.1 करोड़ डॉलर

जमीन-जायदाद क्षेत्र में संस्थागत निवेश जुलाई-सितंबर तिमाही में 17 प्रतिशत बढ़कर 72.1 करोड़ डॉलर

Edited By: , October 13, 2021 / 06:33 PM IST

नयी दिल्ली, 13 अक्टूबर (भाषा) जमीन-जायदाद के क्षेत्र में संस्थागत निवेशकों का निवेश इस साल जुलाई-सितंबर तिमाही में सालाना आधार पर 17 प्रतिशत बढ़कर 72.1 करोड़ डॉलर रहा। आवास क्षेत्र, डाटा सेंटर और गोदामों से जुड़ी परियोजनाओं में सर्वाधिक पूंजी लगायी गयी। संपत्ति के बारे में परामर्श देने वाली कंपनी जेएलएल इंडिया ने यह जानकारी दी।

संस्थागत निवेश में पारिवारिक दफ्तरों, विदेशी कॉरपोरेट समूह, विदेशी बैंक, पेंशन कोष, निजी इक्विटी, रियल एस्टेट कोष सह-डेवलपर, विदेशी वित्त पोषित एनबीएफसी (गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां और सरकारी संपत्ति कोष शामिल हैं। इसमें रियल एस्टेट निवेश ट्रस्ट में निवेश करने वाले निवेशक भी शामिल हैं।

जेएलएल इंडिया ने कहा कि आंकड़ा सार्वजनिक मंचों पर उपलब्ध सूचना के आधार पर जुटाया गया। यह निवेश सौदों की घोषणा पर आधारित है न कि पूंजी के वास्तविक हस्तांतरण के आधार पर।

उसने कहा कि संस्थागत निवेश सालाना आधार पर 2021 की तीसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में 17 प्रतिशत बढ़ा। इसका कारण निवेशकों ने अनिश्चितताओं और बाधाओं के बावजूद सौदों को जारी रखा। हालांकि, तिमाही आधार पर निवेश 47 प्रतिशत कम रहा।

आंकड़ों के अनुसार, रिहायशी क्षेत्र में निवेश जुलाई-सितंबर तिमाही मे 21.1 करोड़ डॉलर पर स्थिर रहा। डाटा सेंटर और मिश्रित उपयोग वाली परियोजनाओं (वाणिज्यिक एवं रिहायशी) में आलोच्य तिमाही में क्रमश: 16.1 करोड़ डॉलर और 13.7 करोड़ डॉलर का निवेश हुआ। जबकि एक साल पहले निवेश शून्य था।

कार्यालय खंड में निवेश में कमी आयी और यह इस साल जुलाई-सितंबर तिमाही में 10 करोड़ डॉलर रहा जो एक साल पहले इसी तिमाही में 40.5 करोड़ डॉलर था।

जेएलएल इंडिया के अनुसार, गोदाम और जमीन के मामले में आलोच्य तिमाही में 9.4 करोड़ डॉलर और 1.8 करोड़ डॉलर का निवेश हुआ। जबकि पिछले साल इसी तिमाही में इसमें कोई निवेश नहीं हुआ था।

आंकड़ों के अनुसार, आलोच्य तिमाही में डाटा सेंटर और चुनिंदा रिहायशी परियोजनाओं में सर्वाधिक संस्थागत निवेश मुंबई में किया गया। इस मामले में शहर की हिस्सेदारी 39 प्रतिशत रही।

बेंगलुरु मिश्रित उपयोग वाली परियोजनाओं में 19 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ दूसरे स्थान पर रहा। वही राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र-दिल्ली की हिस्सेदरी रिहायशी और गोदाम क्षेत्रों में 19 प्रतिशत रही।

वर्ष 2021 में जनवरी-सितंबर के दौरान संस्थागत निवेश 297.7 करोड़ डॉलर रहा जो एक साल पहले इसी अवधि में 153.4 करोड़ डॉलर था।

भाषा

रमण अजय

अजय