Naxalites' answer to the state government | Latest press note of Naxalites | नक्सलियों का गृहमंत्री विजय शर्मा को जवाब | Naxalite Reply to CG Govt: सरकार को नक्सलियों का 4 पन्नों का जवाब.. कहा, 'हमें बदनाम करना आपकी चाणक्य नीति'.. मीडिया पर भी निकाली भड़ास.. आप खुद पढ़े

Naxalite Reply to CG Govt: सरकार को नक्सलियों का 4 पन्नों का जवाब.. कहा, ‘हमें बदनाम करना आपकी चाणक्य नीति’.. मीडिया पर भी निकाली भड़ास.. आप खुद पढ़े

पत्र में नक्सलियों ने सरकार पर आरोप लगाए हैं। उनका मानना हैं कि सरकार एक तरफ निःशर्त वार्ता का दावा करती हैं जबकि दूसरी तरफ उनकी तरफ से कई शर्ते लाद दी जाती हैं।

Edited By :   Modified Date:  May 24, 2024 / 12:18 PM IST, Published Date : May 24, 2024/12:18 pm IST

रायपुर: छत्तीसगढ़ की साय सरकार की तरफ से नक्सल उन्मूलन की दिशा में कई बड़े कदम उठाये गए हैं। इनमे एक तरफ जहां हथियारबंद नक्सलियों को उनकी ही भाषा में जवाब दिया जा रहा हैं तो सरकार दूसरी तरह इस समस्या के समाधान के लिए वार्ता की कोशिश भी कर रही हैं। गृहमंत्री विजय शर्मा ने पहले ही साफ़ कर दिया था की मुठभेड़ उनके नक्सल उन्मूलन का महज 20 फ़ीसदी हिस्सा हैं। (Naxalites’ answer to the state government) वह चाहते हैं कि माओवादी नेताओं से बेहतर माहौल में वार्ता कर इस समस्या का निपटारा किया जाये। गृहमंत्री ने इससे पहले नक्सलियों को वीडियो कॉलिंग या फिर मध्यस्थ के माध्यम से भी बात करने का आमंत्रण भेजा था लेकिन यह कवायद अबतक सफल नहीं रही। वही पिछले दिनों सरकार की तरफ से यह भी बताया गया कि वह समर्पित नक्सलियों के पुनर्वास की नीति को बेहतर करना चाहते हैं। इस सम्बन्ध में गृहमंत्री विजय शर्मा ने नक्सलियों के लिए एक प्रपत्र जारी करते हुए उनके सुझाव मांगे थे।

Police-Naxalites Encounter: नक्सलियों को ढेर कर लौट रही पुलिस पार्टी पर फिर हमला.. एक माओवादी ढेर, जारी हैं एनकाउंटर

Latest press note of Naxalites

बहरहाल इस पूरे मामले को लेकर नक्सलियों की तरफ से चार पन्ने का पत्र जारी किया गया है। इस पत्र में माओवादी नेताओं ने सरकार के उन सवालों का जवाब भी दिया हैं जो उनसे पूछे गए थे।

पत्र में नक्सलियों ने सरकार पर आरोप लगाए हैं। उनका मानना हैं कि सरकार एक तरफ निःशर्त वार्ता का दावा करती हैं जबकि दूसरी तरफ उनकी तरफ से कई शर्ते लाद दी जाती हैं। ऐसे में बातचीत संभव नहीं हैं। पत्र में नक्सलियों ने अपने आंदोलन को जनता का आंदोलन बताते हुए कहा हैं कि उनका आंदोलन कमजोर नहीं बल्कि मजबूत हुआ हैं। अपने खत में नक्सलियों ने दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल और झारखण्ड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के नाम का जिक्र किया हैं। आप खुद भी पढ़े पूरा खत..

 

 

IBC24 की अन्य बड़ी खबरों के लिए हमारे फेसबुक फेज को भी फॉलो करें

IBC24 की अन्य बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Follow the IBC24 News channel on WhatsApp

 

 
Flowers