condom in school

बच्चों के स्कूल बैग में मिल रहे कंडोम और गर्भ निरोधक की गोलियों के साथ ये चीज, देखकर दंग रह गए टीचर्स और पेरेंट्स

condom in school स्कूल बैग में कंडोम, गर्भ निरोधक और सिगरेट साथ ही पानी की बोटल में मिली शराब... बेंगलुरु में हैरान हैं टीचर और पैरंट्स,

Edited By: , December 3, 2022 / 04:51 PM IST

condom in school: बेंगलुरु। इन दिनों स्कूलों में छात्रों द्वारा स्कूल में मोबाइल फोन ले जाना बहुत आम सी बात हो गई है। स्कूलों में प्रतिबंध होने के बाद भी बच्चे चोरी-छिपे स्कूल में मोबाइल फोन लाते है साथ ही उसका इस्तेमाल भी करते है। जिसके लिए स्कूल प्रशासन ने चैकिंग अभियान भी चलाया। स्टूडेंट्स के बैंग की चैकिंग के दौरान टीचर्स को छात्रों के बैग से मोबाइल फोन तो मिले ही लेकिन इसके अलावा जो मिले उसे देश सभी दंग रह गए। स्कूली बच्चों के बैग ने आपत्तीजनक चीज को देख टीचर्स ने बच्चों के पेरेंट्स को इसकी जानकारी दी। जिसके बाद परिजनों ने भी सामान देख अपनी आंखों पर यकीन नहीं हुआ।

8वीं से 10वीं तक के बच्चों के बैग की हुई चैकिंग

condom in school: दरअसल, कर्नाटक के बेंगलुरु में छात्रों के सेलफोन छिपाकर स्कूल में लाने की शिकायत मिली थी। जिस पर स्कूल बैग की जांच की गई। लेकिन इस दौरान जो वाकया निकलकर सामने आया उससे स्कूल प्रशासन के अधिकारी हैरान रह गए। बैग चेकिंग के दौरान पाया गया कि कक्षा 8, 9 और 10 के छात्रों के बैग में कंडोम, गर्भ निरोधक, लाइटर, सिगरेट, व्हाइटनर जैसी चीजों के साथ ही नकदी मिली। कर्नाटक में प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों से संबद्ध प्रबंधन (KAMS) ने स्कूलों से छात्रों के बैग की जांच शुरू करने को कहा था। लेकिन जांच के बाद जो चीज निकल कर सामने आई उसे देखकर सभी की आंखें फटी की फटी रह गई। जिसके बाद प्रिंसिपल ने अभिभावकों के साथ शिक्षकों की मिटिंग कराई जिसमें इस मुद्दे को लेकर गंभीरता जताने की बात कही। साथ ही पेरेंट्स को ये समझाइस भी दी कि इस मामले में वे अपने बच्चों से साथ बैठकर बात करें।

बच्चों को नहीं किया निलंबित

condom in school: इस पूरे मामले को लेकर स्कूलों ने विचार करते हुए फैसला लिया कि छात्रों के निलंबन से इस समस्या का हल नहीं निकाला जा सकता है। जिसको लेकर स्कूलों ने अभिभावकों के साथ साझा बैठक की। नगरभावी स्थित एक स्कूल के प्रिंसिपल ने के मुताबिक ‘जब बच्चों के व्यवहार में इस तरह का परिवर्तन देखने को मिला तो माता-पिता और हम सब समान रूप से हैरान थे। छात्रों में इस तरह की स्थिति पाए जाने पर स्कूलों ने इसे संभालने की सोंची। जिसके लिए स्कूलों ने अभिभावकों को नोटिस जारी किया। लेकिन यह नोटिस पहले की तरह होने की बजाय बिल्कुल अलग था। इसमें छात्रों को निलंबित करने के बजाय परामर्श की सिफारिश की गई। प्रिंसिपल ने कहा, ‘हालांकि हमारे स्कूलों में परामर्श सत्र होते हैं। हमने छात्रों के माता-पिता से कहा कि वे बाहर से भी बच्चों के लिए मदद लें और 10 दिनों तक की छुट्टी ले सकते हैं।’

पानी की बोतल में मिली शराब

condom in school: वहीं एक दूसरे मामले में पाया गया कि दसवीं मे पढ़ने वाली छात्रा के बैग से कंडोम मिला। जब इस बारे में उससे सवाल किया गया तो छात्रा का जवाब था कि जहां वो ट्यूशन पढ़ने जाती है, वहां के लोग इसके लिए दोषी हैं। KAMS के महासचिव का कहना था कि करीब 80 स्कूलों में चेकिंग की गई। उन्होंने कहा, ‘एक छात्र के बैग में गर्भनिरोधक आई-पिल थी। साथ ही पानी की बोतलों में शराब भी थी।’ उनका कहना था कि ‘हम छात्रों से जुड़ी इस समस्या से उबरने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।’ कई एक मामलों में यह भी देखा गया कि कई छात्र को शिक्षकों और सहपाठियों को परेशान करने के लिए गलत भाषा का इस्तेमाल और धमकाने का भी काम कर रहे हैं। एक मामले में मां ने अपने 14 साल के बेटे के जूतों की रैक से एक कंडोम रखा पाया। डॉक्टर की मानें तो कुछ बच्चे प्रयोग करना और ऐसी गतिविधियों में शामिल होना पसंद करते हैं। इसमें खासकर धूम्रपान, नशीली दवाओं की लत और विपरीत लिंग के साथ अत्यधिक सामाजिकता का होना जैसे कि इससे शारीरिक संपर्क का होना शामिल है। उन्होंने कहा, ‘ मेरी सलाह है कि माता-पिता बच्चों का मार्गदर्शन करें।’

IBC24 की अन्य बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें