Indian navy: पहली बार स्वदेशी निर्मित दो जंगी जहाज एक साथ लॉन्च, बढ़ेगी नौसेना की ताकत, जानें इसकी खासियत

Indian navy : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मुंबई के मझगांव डॉक में दो युद्धपोत सूरत और उदयगिरी की लॉन्च किया।

Edited By: , May 17, 2022 / 06:22 PM IST

Indian navy: मंगलवार का दिन भारतीय नौसेना के लिए बेहद खास रहा। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मुंबई के मझगांव डॉक में दो युद्धपोत सूरत और उदयगिरी की लॉन्च किया। इन दोनों युद्धपोत की लॉन्चिंग से नौसेना की और ताकत बढ़ गई है। दोनों युद्धपोतों को नौसेना डिजाइन निदेशालय ने इन-हाउस डिजाइन किया है और एमडीएल मुंबई में बनाया गया है। सूरत प्रोजेक्ट 15बी श्रेणी का चौथा निर्देशित मिसाइल विध्वंसक है, जबकि उदयगिरि पी17ए श्रेणी का दूसरा स्टील्थ युद्धपोत है।

Read more :Gyanvapi Mosque Survey: जज पर भड़के मुनव्वर राणा, मुस्लिम पक्ष के लिए भी कही ऐसी-वैसी बात 

ये दोनों युद्धपोत मेक इन इंडिया के तहत भारत में बने हैं। मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड ने कहा कि पहली बार स्वदेशी निर्मित दो युद्धपोतों को एक साथ लॉन्च किया गया है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने दोनों युद्धपोतों को लॉन्च किया। इन दोनों युद्धपोतों के नाम पर्वत और शहर के नाम से रखे गए हैं। इसमें आत्मनिर्भर भारत’ का खास ध्यान रखा गया है।

INS उदयगिरि

Indian navy: INS उदयगिरि भारतीय नौसेना के प्रोजेक्ट 17 ए का तीसरा फ्रिगेट युद्धपोत है। स्वदेश निर्मित यह आधुनिक सुविधाओं और उन्नत हथियारों से लैस युद्धपोत है। इसमें उन्नत हथियार, सेंसर और प्लेटफॉर्म मैनेजमेंट सिस्टम है। आईएनएस उदयगिरि नौसेना के प्रोजेक्ट का तीसरा फ्रिगेट युद्धपोत है। नौसेना के इस प्रोजेक्ट के तहत देश में ही 7 फ्रिगट तैयार किये जाने हैं।

Read more :‘आदतन अपराधी हैं आजम खान, नहीं मिलनी चाहिए जमानत’, SC में बेल के विरोध में बोली UP सरकार

INS सूरत

INS सूरत भारतीय नौसेना के प्रोजेक्ट 15 बी का नेक्स्ट जेनरेशन स्टेल्थ गाइडेड मिसाइल डिस्ट्रॉयर है। यह 7400 टन भारी है। इसकी लंबाई 163 मीटर और गति करीब 56 किलोमीटर प्रतिघंटा होगी। इस पर चार इंटरसेप्टर बोट के साथ 50 अफसर और 250 नौसैनिक रह सकते हैं। यह करीब 45 दिनों तक समुद्र में रह सकता है।

Read more  Gyanvapi Mosque hearing: कोर्ट कमिश्नर अजय मिश्रा हटाए गए, वाराणसी कोर्ट की बड़ी कार्रवाई, 2 दिन में सर्वे रिपोर्ट पेश करने के आदेश