KCR not to receive PM Modi at Hyderabad airport, third time in six months

पीएम मोदी की अगुवाई करने एयरपोर्ट नहीं जाएंगे सीएम KCR, 6 महीने के भीतर तीसरी बार करेंगे ऐसा

पीएम मोदी की अगुवानी करने एयरपोर्ट नहीं जाएंगी सीएम KCR! KCR not to receive PM Modi at Hyderabad airport, third time in six months

Edited By: , July 2, 2022 / 12:42 PM IST

हैदराबाद: KCR not to receive PM Mod देश की सबसे बड़ी और सत्ताधारी पार्टी भाजपा दक्षिण भारत में अपनी पैठ जमाने में जुटी हुई है। इसी के चलते भाजपा ने हैदराबाद में 2-3 जुलाई को पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक आयोजित की है। इस बैठक में पीएम मोदी, जेपी नड्डा सहित पार्टी के सभी बड़े नेता शामिल होंगे। आमतौर पर देखा गया है कि जब कोई राज्य में प्रधानमंत्री आते हैं तो उस राज्य के मुख्यमंत्री उनकी अगवानी करते हैं, लेकिन तेलंगाना में बीते कुछ दिनों से ऐसा नहीं हो रहा है। प्रदेश के सीएम के चंद्रशेखर राव पीएम मोदी की अगुवानी में नहीं पहुंचते। बताया जा रहा है कि इस बार भी वो पीएम मोदी की अगुवानी नहीं करेंगे। बता दें कि सीएम के चंद्रशेखर राव ऐसा 5 महीने में तीसरी बार करने जा रहे हैं।>>*IBC24 News Channel के WhatsApp  ग्रुप से जुड़ने के लिए  यहां Click करें*<<

Read More: राजपाल यादव की बढ़ी मुश्किलें, लाखों की धोखाधड़ी करने का आरोप, जा सकते है जेल ! 

KCR not to receive PM Mod इससे पहले जब मोदी हैदराबाद में आईएसबी के 20वें वार्षिक दिवस समारोह और बिजनेस स्कूल के स्नातक समारोह(graduation ceremony) में भाग लेने के लिए 26 मई को हैदराबाद पहुंचे थे, तब भी तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर उनसे नहीं मिले थे। उस समय वे देवगौड़ा से मिलने बैंगलोर निकल गए थे। इससे पहले 5 फरवरी को मोदी जब मुचिन्तल में मूर्ति statue of equality मूर्ति का अनावरण करने के लिए हैदराबाद पहुंचे थे, तब भी केसीआर ने कहा था कि वे कोविड-19 से पीड़ित हैं।

Read More: समस्याओं को लेकर इस नंबर पर करें कॉल, घरों में पानी भरने पर पहुंचेगी मदद 

हैदराबाद में 18 साल बाद पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हो रही है। इसमें देशभर से करीब 350 सदस्य शामिल होंगे। बैठक के बाद 3 जुलाई को पीएम मोदी की जनसभा भी होगी। तेलंगाना में के चंद्रशेखर राव सरकार को लेकर भाजपा के तेवर आक्रामक बने हुए हैं। भाजपा का आरोप है कि राव अपने 3000 दिन से अधिक के कार्यकाल के दौरान 30 घंटे भी दफ्तर में नहीं बैठे। आरोप लगाए जा रहे हैं कि वे रंगीन शामें बिताने, अपने पारिवारिक शासन को बढ़ावा देने के चलते सरकार पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। तेलंगाना में 119 विधानसभा क्षेत्रों की जमीनी हकीकत जानने भाजपा सर्वे करा रही है, ताकि इस सरकार को घेरा जा सके।

Read More: Byju’s ने 2500 कर्मचारियों को नौकरी से निकाला, इस वजह से कर्मचारियों पर गिरी गाज

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव लंबे समय से विपक्षी क्षेत्रीय दलों को एक साथ जोड़ने की कवायद कर रहे हैं। हालांकि वे इसमें सफल नहीं हो पाए हैं। फरवरी में उन्होंने शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे और NCP चीफ शरद पवार से मुलाकात की थी। लेकिन महाराष्ट्र की सरकार गिरने के बाद उनकी यहां से भी उम्मीद टूट गई। इस समय देश में दो मोर्चे एक्टिव हैं। पहला भाजपा के नेतृत्व वाला राजग और दूसरा कांग्रेस के नेतृत्व वाला संप्रग। राव तीसरा मोर्चा बनाना चाहता हैं। वे कांग्रेस को भी पसंद नहीं करते।

 

#HarGharTiranga