कोरोना ही नहीं अब प्रदूषण पर कंट्रोल करने लगेगा लॉकडाउन? यहां जहरीली हो रही हवा पर सुप्रीम कोर्ट सख्त

Not only Corona, now lockdown will start to control pollution?

Edited By: , November 13, 2021 / 01:23 PM IST

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली-एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए लॉकडाउन पर विचार करने की बात कही है। शनिवार को प्रदूषण पर सुनवाई के दौरान सीजेआई ने कहा कि सरकार को दो दिनों के लिए लॉकडाउन पर विचार करना चाहिए।

पढ़ें- PM Kisan, किसानों को 2000 किस्त के साथ मिलेगी 3000 रुपए की मासिक पेंशन.. देखिए पूरी प्रक्रिया 

उन्होंने कहा कि पराली जलाने के अलावा दिल्ली में इंडस्ट्रीज, पटाखें और डस्ट प्रदूषण के कारण हैं। दो दिनों का लॉकडाउन भी उपाय हो सकता है। कोर्ट ने केंद्र को निर्देश दिया है कि वायु प्रदूषण की वजह से बने आपातकालीन हालात से निपटने के लिए क्या फैसले लिए गए हैं, इसके बारे में सोमवार को जानकारी दें।

पढ़ें- रात 12 बजे दोस्त को वीडियो कॉल कर महिला सब इंजीनियर ने लगा ली फांसी.. लाख समझाने के बाद नहीं मानी बात 

सुनवाई के दौरान सीजेआई ने कहा कि राजधानी में प्रदूषण की हालत बदतर है, लोग घरों में मास्क पहनने को मजबूर हो रहे हैं। आपने क्या कदम उठाए हैं। इस पर सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि पराली जलाने के कारण दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण बढ़ा है। इसे रोकने के लिए राज्यों को कुछ कड़े कदम उठाने होंगे।

पढ़ें- केंद्र ने 19 राज्यों को 8,453.92 करोड़ का अनुदान किया जारी, छत्तीसगढ़ को मिले 338 करोड़, स्वास्थ्य सेवाएं होंगी मजबूत 

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा कि आप आज ही मीटिंग करें और तत्काल इमर्जेंसी स्टेप उठाएं। इस पर सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि आज मीटिंग होगी। सीजेआई ने कहा कि न्यूज रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रदूषण की बड़ी वजह पराली जलाना है तो पंजाब और हरियाणा सरकार से यह क्यों नहीं कहा जा रहा कि इस पर 2-3 दिन में पूरी तरह लगाम लगे।

पढ़ें- रात 12 बजे दोस्त को वीडियो कॉल कर महिला सब इंजीनियर ने लगा ली फांसी.. लाख समझाने के बाद नहीं मानी बात 

अदालत ने केंद्र से कहा कि आपको इस मुद्दे को राजनीति और शासन से हटकर देखना होगा। कुछ न कुछ होना ही चाहिए ताकि दो-तीन दिन में हम बेहतर महसूस करें। सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि केंद्र सरकार आज इस संबंध में एक आपात बैठक करेगी।

पढ़ें- केंद्र ने 19 राज्यों को 8,453.92 करोड़ का अनुदान किया जारी, छत्तीसगढ़ को मिले 338 करोड़, स्वास्थ्य सेवाएं होंगी मजबूत 

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्‍ली सरकार ने स्‍मॉग टावर्स लगाने और उत्‍सर्जन कम करने के प्रॉजेक्‍ट्स का क्‍या हुआ, यह पूछा है। कोर्ट ने तल्‍ख लहजे में कहा कि अब किसानों पर ठीकरा फोड़ना का फैशन बन गया फिर चाहे व‍ह दिल्‍ली सरकार हो या कोई और। कोर्ट ने पूछा कि ‘पटाखों पर बैन था, उसका क्‍या हुआ?’