पंजाबी सिंगर मूसेवाला की हत्या की साजिश का हुआ खुलासा, तिहाड़ में हो रही नई सुरक्षा व्यवस्था

कैदियों को अब किसी भी हाल में फोन पर रोक लगाने के लिए प्रशासन कड़ी मेहनत से नए उपकरण की व्यवस्था कर रही है।

Edited By: , June 24, 2022 / 11:42 AM IST

नई दिल्ली। ​तिहाड़ जेल में लगातार गैंगस्टर और आंतकियों सहित कई अपराधों को फोन कनेक्ट करते सुना होगा। इसकी शिकायत आए दिन जेल वार्डों में आती रहती है। इसे देखते हुए ही मोबाइल फोन से सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े हो रहे हैं। अभी हाल ही में कुख्यात गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई पर जेल से पंजाबी सिंगर मूसेवाला की हत्या की साजिश फोन पर रचे जाने का खुलासा होते ही जेल प्रशासन भी सकते में आ गया है। कैदियों को अब किसी भी हाल में फोन पर रोक लगाने के लिए प्रशासन कड़ी मेहनत से नए उपकरण की व्यवस्था कर रही है।

यह भी पढ़ें: Government Job Recruitment: सिर्फ 20 रुपये में कर सकते हैं आवेदन! 10वीं पास जल्दी करें अप्लाई

तिहाड़ में लगातार मिल रहे अपराधियों के फोन

प्रशासन अब तिहाड़ के लिए और भी सख्त हो गई है। जेल के वार्ड में भी जैमर लगाने का निर्णय लिया है। ये जैमर जेल के हाई रिस्क वार्ड में लगाए जाएंगे, ताकि इन वार्ड में बंद कुख्यात गैंगस्टर व आतंकी मोबाइल का इस्तेमाल न कर सकें। इसकी जानकारी तिहाड़ जेल के डीजी संदीप गोयल ने दी। उन्होंने बताया कि तिहाड़ के इन कैदियों पर अब तकनीक का इस्तेमाल कर सख्त रोक लगाई जाएगी। मोबाइल कनेक्टिविटी सिस्टम को बंद करने से जेल में अब जेल से कैदियों का कॉल करना बंद हो जाएगा। इस नई परियोजना पर तेजी से काम चल रहा है। माना जा रहा है कि हाई रिस्क वार्ड में जैमर लगने के बाद मोबाइल के इस्तेमाल पर रोक लग जाएगी।

देखिए तिहाड़ की वर्तमान स्थिति

तिहाड़ में अभी कैदियों के बीच मोबाइल कनेक्टिविटी को बंद करने के लिए पूरे तिहाड़ जेल में महज 3 कॉल जैमिंग टावर लगाए गए हैं। ताकि अगर कैदी चोरी-छिपे कहीं से मोबाइल हासिल भी कर लें तो ये फोन कॉलिंग की सुविधा का लाभ नहीं उठा सकेंगे।

यह भी पढ़ें: इस मुश्किल वक्त में अफगानिस्तान की मदद को तैयार हैं : भारत

जेल में ऐसे किए जाते हैं इस्तेमाल

– कैदी फोन का इस्तेमाल करने के लिए जैमर का तार काट देते हैं।
– उन्हें जेल की वो लोकेशन भी पता होती है जहां जैमर का असर नहीं होता।
– कई बार ये दूसरों का नेट इस्तेमाल करते हैं।