देखिए 100 फीट गढ्ढे वाले नेशनल हाईवे, 7 सालों बाद उठे सवाल

स्थानीय लोगों ने बताया कि 2015 के बाद से ही यह सड़क पूरी तरह से जर्जर हालत में पड़ी हुई है। इसे बनाने के लिए अब तक तीन बार टेंडर जारी किया जा चुका है,

Edited By: , June 23, 2022 / 05:59 PM IST

भारत-नेपाल सीमा के पास बिहार के मधुबनी से गुजरने वाली नेशनल हाईवे काफी सुर्खियां बटोर रहा है। बिहार का यह NH—227, जहां भयानक गड्ढा लगभग 100 फीट का है। इस सड़क से छोटी गाड़ियों समेत ट्रक और डंपर जैसे बड़े वाहन भी गुजरते हैं, जिससे हादसों का डर बना रहता है। इन दिनों सोशल मीड‍िया पर तेजी से वायरल हो रहा है। ड्रोन की मदद से वीड‍ियो को बनाया गया है जिसमें हर जगह गड्‌ढे ही गड्‌ढे नजर आ रहे हैं। कलुआही-बासोपट्टी-हरलाखी से गुजरने वाली इस जर्जर नेशनल हाईवे से स्‍थानीय लोग परेशान हैं।>>*IBC24 News Channel के WhatsApp  ग्रुप से जुड़ने के लिए Click करें*<<

यह भी पढ़ें : Government job Recruitment : अगर आपके पास भी है ये डिग्री, तो जल्दी से करें अप्लाई, इस विभाग में निकली बंपर भर्ती

100 फीट के गड्ढों को निहारती बिहार सरकार

स्थानीय लोगों ने बताया कि 2015 के बाद से ही यह सड़क पूरी तरह से जर्जर हालत में पड़ी हुई है। इसे बनाने के लिए अब तक तीन बार टेंडर जारी किया जा चुका है, लेकिन सभी ठेकेदारों ने कुछ दिन सड़क निर्माण कार्य में लगे रहे, फिर कुछ दिनों बाद आधे अधूरे काम को छोड़ फरार हुए। इस हाईवे से कई बड़े बड़े  राजनेताओं का आना-जाना लगा रहता है। बावजुद इसके किसी ने भी इसकी बदहाली पर ध्यान नहीं दिया। बिहार सरकार और विभागीय अधिकारियों ने भी इसे नज़र अंदाज किया।

यह भी पढ़ें :घोड़ी पर नहीं आयेगा दूल्हा और न रखेगा दाढ़ी, डीजे पर भी बैन, यहां तय हुए शादी के नए नियम

क्यों  उठे सदन में सवाल?

स्थानीय BJP विधायक अरुण शंकर प्रसाद ने सदन के जरिए तीन बार अलग-अलग सत्रों में सवाल उठाया, लेकिन NH के अधिकारियों को कोई खास फर्क नहीं पड़ा। चैंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष परशुराम पूर्वे ने बताया कि बारिश में 500 दुकानों के मालिकों और 15 हजार परिवार को काफी परेशानी होती है। इस गंभीर मामले को सदन में उठाने के बाद अब कोर्ट में चल रहा है। ठीकेदार रवींद्र कुमार ने बताया कि मेटेरियल का रेट बढ़ गया है। विभाग द्वारा पेमेंट भी लंबित है। इस कारण निर्माण कार्य बार—बार बाधित हो रहा है। वहीं NHI जयनगर के कार्यपालक अभियंता लोकेशनाथ मिश्रा ने कहा कि दोबारा टेंडर प्रकिया में कम से कम और तीन महीने का समय लगेगा। बारिश को देखते हुए विभाग की ओर से मरम्‍मत कराई जाएगी।इसका एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है। ड्रोन से बने इस वीडियो को देखकर लोग तरह-तरह के कमेंट्स कर रहे हैं। एक यूजर ने पूछा कि सड़क कहां है? सभी जगह सिर्फ गड्ढे ही दिख रहे हैं।