लड़के ने बाल आयोग को फोन कर रुकवा दी अपनी शादी, एजप्रूफ भेजकर बोला ‘मैम मेरा बाल-विवाह हो रहा है’

ज्यादातर देखा जाता है कि अगर किसी कम उम्र लड़की की शादी हो रही है तो वह अपनी शादी रुकवाने का प्रयास करती है। लेकिन राजस्थान में एक 19 साल के लड़के ने फोन करके अपनी शादी रुकवा दी। मामला दौसा के सिकराई का है। उसकी शादी आज होने वाली थी।

: , November 29, 2021 / 04:03 PM IST

boy stopped his marriage : जयपुर। ज्यादातर देखा जाता है कि अगर किसी कम उम्र लड़की की शादी हो रही है तो वह अपनी शादी रुकवाने का प्रयास करती है। लेकिन राजस्थान में एक 19 साल के लड़के ने फोन करके अपनी शादी रुकवा दी। मामला दौसा के सिकराई का है। उसकी शादी आज होने वाली थी। लेकिन उसने स्टेट चाइल्ड कमीशन को फोन करके बता दिया और शादी रुक गई।

read more: आज Collector-Commissioner, IG-SP Conference करेंगे CM Shivraj | Corona के हालात की समीक्षा की जाएगी
शिकायत करने वाला लड़का 12वीं का छात्र है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक उसने कहाकि वह आगे पढ़ाई करना चाहता है। मामले की जानकारी होने के बाद चाइल्ड कमीशन ने जिला प्रशासन को निर्देश दिए हैं। प्रशासन से कहा गया है कि वह इस बात पर नजर रखे की छात्र की शादी कानूनी रूप से तय 21 साल की उम्र में ही हो।

read more: पहले सत्र में भारतीय गेंदबाजों को कोई विकेट नहीं मिला
राजस्थान बाल अधिकार की अध्यक्ष के अनुसार संभवत: यह पहली बार है कि किसी लड़के ने फोन करके अपनी शादी रुकवाई है। उनके मुताबिक लड़के ने फोन करके बताया था कि उसकी सोमवार को शादी है। उसने शादी के कार्ड की फोटो के साथ एजप्रूफ के तौर पर दसवीं की मार्कशीट की फोटो भी भेजी थी। इसके बाद बेनीवाल ने अधिकारियों को फोन करके शादी रुकवाने का निर्देश दिया। उन्होंने कहाकि यह अच्छी बात है कि लड़के भी अगर अंडरएज शादी के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं।

read more: आईएमडी ने कहा, 30 नवंबर से पहाड़ों पर बर्फबारी, उत्तर-पश्चिम व मध्य भारत में बारिश की संभावना
गौरतलब है कि हाल ही में नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे का पांचवां संस्करण आया है। इसमें बताया गया है कि 28.2 फीसदी लड़के कानूनी उम्र पूरी करने से पहले ही शादी के बंधन में बंध चुके थे। वहीं 25.4 फीसदी लड़कियों की शादी भी कानूनी रूप से उम्र पूरा करने के पहले ही हो चुकी थी। हालांकि राजस्थान में बाल विवाह के मामलों में कमी आई है। ग्रामीण इलाकों की बात करें तो 2015-16 में यहां पर 44.7 फीसदी बाल विवाह के मामले सामने आए थे। वहीं 2019-20 में यह 33.2 फीसदी पर आ चुका था।