विपक्ष के वार पर उद्धव ने किया पलटवार, बोलें गदा उठाने के लिए ताकत चाहिए, जो सिर्फ शिवसेना के पास

Uddhav retaliated on the opposition's attack, said that it needs strength : मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे इन दिनों अपने बयानों को लेकर चर्चा में बने हुए हैं। राज ठाकरे से लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर वे जमकर हमला बोलते है।

Edited By: , May 14, 2022 / 09:43 PM IST

मुंबई। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे इन दिनों अपने बयानों को लेकर चर्चा में बने हुए हैं। राज ठाकरे से लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर वे जमकर हमला बोलते है। जिसके कारण बीजेपी वर्सेस शिवसेना का कोल्डवार सोशल मीडिया में खूब वायरल होता है। आज फिर मुंबई के बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स में एक विशाल रैली को संबोधित करते हुए सीएम ठाकरे ने भाजपा पर जमकर हमला बोला। उन्होंने देवेंद्र फडणवीस के गदहाधारी वाले बयान पर पलटवार करते हुए कहा हिंदुत्व गदाधारी है, तुम्हारे जैसा घंटाधारी नहीं है। हां हमने 3 साल पहले गधे को अपने साथ से हटा दिया है। गदा उठाने के लिए ताकत चाहिए, जो सिर्फ शिवसेना के पास है।

यह भी पढ़ें:  CGBSE Board Result 2022 Live: 10वीं की टॉप 5 में 4 बेटियों ने मारी बाजी, देखें टॉपर्स की सूची

सीएम ठाकरे ने आगे कहा भाजपा वाले आज दाऊद के पीछे पड़े है। कल को अगर दाऊद भाजपा में शामिल हो जाए तो ये लोग उसे मंत्री भी बना देंगे। 1 मई को फडणवीस बोले कि मुंबई को स्वतंत्र करेंगे। तुम्हारे जैसी कई पीढ़ियां भी ऐसा नहीं कर पाएंगे। जो भी ऐसा करने का प्रयास करेगा मराठी और हिंदू उसके टुकड़े-टुकड़े कर देगा। ऐसा भ्रम फैलाया जा रहा है कि भाजपा हिंदुत्व की रक्षक है। ये लोग मेरी मुंबई को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं। ये झूठे हिंदुत्व का बुरखा डालकर ज्यादा आवाज कर रहे हैं। मैं बहुत दिनों बाद मैदान में उतरा हूं। खुली सांस ले रहा हूं। मुझे बहुत सारे विषयों पर बोलना है।

यह भी पढ़ें: cgbse result 2022: 10वीं में दो छात्राओं ने मारी बाजी, 12वीं में कुंती साव ने किया टॉप, यहां चेक करें टॉपर की लिस्ट

उद्धव ने आगे मोदी और संघ पर सवालिया खड़ा करते हुए कहा कि संघ एक बार भी देश की स्वतंत्रता की लड़ाई में उतरी नहीं। आपका देश की स्वतंत्रता में क्या रोल है? संयुक्त महाराष्ट्र कमेटी से सबसे पहले जनसंघ भागी थी। IPL के जैसे PM के Covid कॉन्फ्रेंस को मैं देख रहा था। मुझे तो बोलना नहीं था। बोलते-बोलते महंगाई घटाने का उपाय बताते गए कि आप पेट्रोल के दाम कम कीजिए। हमारे GSTके पैसे तो दे नहीं रहे हैं।

यह भी पढ़े : त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने दिया इस्तीफा, बढ़ी राजनीति हलचल