Unique dance festival of the state, where men stay as women for

प्रदेश का अनोखा डांस फेस्टिवल, जहां इतने दिनों तक औरत बनकर रहते हैं पुरुष

Unique dance festival of the state, where men stay as women for so many days

Edited By: , September 22, 2022 / 05:06 PM IST

men stay as women for so many days: राजस्थान: भरता देश अपनी अलग कला और संस्कृति के लिए जाना जाता है। यहां हर दूसरे इंसान की अपनी एक अलग मान्यता है और अलग धर्म। इसके साथ ही हर त्योहार की अपनी एक प्रथा है। जिसके अनुसार लोग अपने त्योहार को मनाते है। ऐसा ही एक अनोखा फेस्टिवल राजस्थान में भी मनाया जाता है। जो की डांस फेस्टिवल के नाम से जाना जाता है। इस फेस्टिवल को राजस्थान के आदिवासी समाज के लोग मनाते है। वही इस डांस फेस्टिवल को गवरी नृत्य कहा जाता है।

यह भी पढ़ें: Sharidya Navratri 2022: हाथी पर सवार होकर आएंगी माता, जानिये इसका महत्त्व, मिल रहे हैं बेहद शुभ संकेत

चालीस दिन महिला बन के रहते है पुरुष

men stay as women for so many days: आपको बता दें कि, गवरी को लेकर समाज के लोगों में इतना क्रेज है कि जिस गांव में ये फेस्टिवल होता है, वहां के लोग अपना सब काम छोड़कर इस फेस्टिवल में शामिल होने के लिए पहुंचते है। आपको जानकर हैरानी होगी की इस डांस फेस्टिवल में पार्टिसिपेट करने वाले कलाकार एक बार मेकअप कर लेते हैं तो चालीस दिन तक अपने उस मेकअप को उतारते तक नहीं सकते है,न ही नहा सकते है।

यह भी पढ़ें: Durg Rape News : पांच साल की बच्ची से 2 नाबालिगों ने की हैवानियत | Social Media पर Video किया Viral

गवरी नृत्य डांस फेस्टिवल का लोगों के अंदर अलग ही क्रेज है

men stay as women for so many days: इस फेस्टिवल के मान्यता के अनुसार गवरी नृत्य में सिर्फ पुरुष ही हिस्सा ले सकते है। साथ ही इस फेस्टिवल के अंतर्गत पुरुष ही देवी बनते है और देवता भी पुरुष ही बनते है। क्योकि महिलाओं को इस डांस फेस्टिवल में शमिल होने की इजाजत नहीं होती। इसके साथ ही आर्टिस्ट मेकअप करने के लिए हल्दी, आटा और पत्तियों के रस से बने रंग को इस्तेमाल करते है। वही इस दौरान कलाकार न तो चप्पल पहनते है न ही अपने साज को जमीन पर रखते है। बता दें कि राजसमंद, चित्तौड़गढ़, उदयपुर और प्रतापगढ़ इलाके में गवरी नृत्य को लेकर ज्यादा क्रेज है। चेहरे पर महिलाओं जैसा मेकअप और पैरो में घुंघरू बांधे जब ये पुरुष थिरकते हैं तो हर कोई मोहित हो जाता है।