कोरोना के बाद क्या बन रही है एंटीबॉडी, DRDO के किट से 75 रुपए में घर पर ही जांच सकेंगे

कोरोना के बाद क्या बन रही है एंटीबॉडी, DRDO के किट से 75 रुपए में घर पर ही जांच सकेंगे

Edited By: , May 22, 2021 / 04:53 AM IST

नई दिल्ली। कोरोना से रिकवर हुए लोग अब घर बैठे ही अपना एंटीबॉडी आसानी से जांच कर सकते हैं। DRDO ने कोविड-19 एंटीबॉडी डिटेक्ट करने के लिए एक किट बनाई है। DIPCOVAN किट SARS-CoV-2 वायरस के प्रोटीन को डिटेक्ट कर सकती है। यह किट दिल्ली स्थित वेनगार्ड डाइग्नोस्टिक प्राइवेट लिमिटेड से साथ मिलकर बनाई गई है। इस किट को टेस्ट करने के लिए दिल्ली के अलग-अलग कोविड हॉस्पिटल्स से 1000 मरीजों के सैंपल लिए गए।

पढ़ें- पाकिस्तान के युवकों से संपर्क में थी प्रदेश की दो य…

इसी साल अप्रैल में आईसीएमआर ने इस एंटी बॉडी डिटेक्शन किट को अप्रूवल दिया है। इसी महीने इस प्रॉडक्ट को हेल्थ मिनिस्ट्री ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) का अप्रूवल भी मिल गया। इसे बनाने, बांटने और बेचने का अप्रूवल मिल गया है। डीसीजीआई रेगुलेटरी अथॉरिटी है।

पढ़ें- टीकाकरण में आएगी तेजी, कोविशील्ड की 2 लाख डोज पहुंच…

लॉन्च के बाद हर महीने 500 किट बनाने की क्षमता फिलहाल है। प्रति टेस्ट की कीमत करीब 75 रुपये के आसपास होगी। इस किट से यह पता चलेगा कि किसी के शरीर में कोविड-19 की एंटीबॉडी बनी है या नहीं। कई बार एसिमटोमेटिक मरीजों को पता नहीं चलता है कि उन्हें कोरोना संक्रमण हुआ है। अगर इस टेस्ट किट से एंटीबॉडी का पता चलता है तो यह भी पता चल जाएगा कि वह पहले संक्रमित हो चुके हैं।

पढ़ें- एक और जिले में ​​प्रशासन ने बढ़ाई सख्ती, 31 मई सुबह.

ह्यूमन प्लाज्मा में कोविड-19 एंटीबॉडी का इस किट से पता लगाया जा सकता है। इस किट के जरिए 75 मिनट में एंटीबॉडी का पता चल जाता है। किट की लाइफ 18 महीने है।

पढ़ें- टूल किल मामले में BJP का जेल भरो आंदोलन आज, रमन सिं…

इस किट को बनाने में डीआरडीओ की पार्टनर रही कंपनी वेनगार्ड डाइगनोस्टिक्स इसे जून के पहले हफ्ते में लॉन्च करेगी। लॉन्च के वक्त करीब 100 किट लॉन्च की जाएंगी। एक किट से करीब 100 टेस्ट हो सकते हैं।