MP Board Exam 2024

12th Class Exam: एक परीक्षार्थी के लिए तैनात रही 8 कर्मचारियों की टीम, जानें ऐसा क्या हुआ कि छात्रा को अकेले देना पड़ा एग्जाम

MP Board Exam 2024: एक परीक्षार्थी के लिए तैनात रही 8 कर्मचारियों की टीम, जानें ऐसा क्या हुआ कि छात्रा को अकेले देना पड़ा एग्जाम

Edited By :   Modified Date:  February 21, 2024 / 05:44 PM IST, Published Date : February 21, 2024/5:44 pm IST

अशोकनगर: MP Board Exam 2024 मध्यप्रदेश में इस वक्त परीक्षाओं का दौर चल रहा है। मध्यप्रदेश के माध्यमिक बोर्ड द्वारा आयोजित 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं जारी है। इसी बीच बोर्ड परीक्षा के दौरान एक अजीब तस्वीर सामने आई है। दरअसल, यहां परीक्षा केंद्र में एक छात्रा ने परीक्षा दी है। चौकाने वाली बात ये है कि इस छात्रा के लिए 8 कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई।

Read More: Pradosh Vrat 2024 Bhog: प्रदोष व्रत के दिन महादेव को लगाएं इन चीजों का भोग, दूर होंगे सारे कष्ट, मिलेगा भोले बाबा का आशीर्वाद 

MP Board Exam 2024 जानकारी के अनुसार, मामला अशोकनगर का है। जहां एक तरफ परीक्षा केंद्र में 800 से अधिक छात्र छात्राएं पेपर दे रहे थे, तो दूसरी ओर एक अकेली छात्रा परीक्षा देने पहुंची। जिसके लिए कुल 8 कर्मचारियों को तैनात किया गया था।

Read More: पूर्व मंत्री शिव डहरिया की पत्नी पर निगम के सामुदायिक भवन पर कब्जा करने का आरोप, नेता प्रतिपक्ष ने दस्तावेजों के साथ उठाया मामला 

दरअसल, छात्रा की संस्कृत का परीक्षा था। बताया जा रहा है कि इस विषय को पढ़ने वाली एक ही छात्रा थी। जिसकी वजह से छात्रा को अलग से परीक्षा हॉल में एग्जाम देना पड़ा। छात्रा का नाम मनीषा अहिरवार है जो कचनार गांव की रहने वाली है। हायर सेकेंडरी की परीक्षा में जब संस्कृत का पेपर आया तो मनीषा अकेली थी और परीक्षा केंद्र पर कलेक्टर प्रतिनिधि आकाश जैन के अलावा पर्यवेक्षक सपना शर्मा, केंद्राध्यक्ष असलम बेग मिर्जा, सहायक केंद्राध्यक्ष निर्मला चंदेलिया, राजकुमार धुरेंटे, एक पुलिस कर्मी सहित 2 चपरासी नियुक्त किए गए।

Read More: Maheshwar Hazari Resigns: लोकसभा चुनाव से पहले विधानसभा उपाध्यक्ष ने दिया इस्तीफा, जानें क्या है वजह

कचनार को मिला संस्कृत का शिक्षक पहली बार 4 ने दी परीक्षा कचनार के शासकीय स्कूल में पहले संस्कृत के अतिथि शिक्षक पदस्थ थे लेकिन अब स्कूल में स्थाई शिक्षिका के तौर पर सरला तोमर की नियुक्ति हुई है। वे बताती हैं कि जो बच्चे अंग्रेजी में कमजोर हैं, उनको समझ नहीं आती तो वे अपनी इच्छानुसार संस्कृत ले रहे हैं। पहले बच्चे संस्कृत नहीं लेते थे लेकिन अब संस्कृत विषय लेना शुरू किया है। 12वीं क्लास में 4 बच्चों ने संस्कृत दी है और गांव के स्कूल में ही उनकी परीक्षा हुई है। वहीं 11वीं क्लास में इस बार 13 बच्चे संस्कृत के हैं।

Follow the IBC24 News channel on WhatsApp

IBC24 की अन्य बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

 
Flowers