Electricity workers will agitate for their demands

अपनी मांगों को लेकर बिजली कर्मचारी करेंगे आंदोलन, सरकार को चेतावनी देते हुए याद दिलाए चुनावी वादे

मध्यप्रदेश के बिजली कर्मचारी  दिवाली के पहले बड़े आंदोलन की तैयारी में है

Edited By: , September 23, 2022 / 05:25 PM IST

Electricity worker movement in mp : भोपाल – मध्यप्रदेश के बिजली कर्मचारी  दिवाली के पहले बड़े आंदोलन की तैयारी में है, जिसकी शुरुवात आज सांकेतिक प्रदर्शन के रूप में कर्मचारियों ने कर दी है।  18 सूत्रीय मांगों को लेकर बिजली कर्मचारियों ने सांकेतिक प्रदर्शन किया गया और ऊर्जा मंत्री प्रद्धुम्न सिंह तोमर को उनका वह वादा याद दिलाया, जो उन्होंने एक साल पहले मांगों को लेकर किया था। एमपी नगर विद्युत सब स्टेशन के सामने यूनाइटेड फोरम फॉर पावर एंप्लॉय एवं इंजीनियर संगठन के बैनरतले बिजली कर्मचारियों ने प्रदर्शन किया। >>*IBC24 News Channel के WHATSAPP  ग्रुप से जुड़ने के लिए  यहां CLICK करें*<<

read more : PFI सदस्यों की रिमांड पर गृहमंत्री दे दिया बयान, राहुल गाँधी की भारत जोड़ो यात्रा के लिए कही ये बात 

Electricity worker movement in mp : इस दौरान कर्मचारी मंत्री जी वादा निभाओ लिखी तख्तियां हाथों में लिए थे और नारेबाजी कर रहे थे। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि 23 अगस्त 2021 को ऊर्जा मंत्री ने एक महीने में 18 सूत्रीय मांगों का निराकरण करने का वादा किया था, लेकिन एक साल बीत गया मांगों पर न तो कोई चर्चा हुई और न ही निराकरण किया गया।  इसलिए यह सांकेतिक प्रदर्शन किया गया, ताकि ऊर्जा मंत्री मांगों पर ध्यान दे दें, वरना 2 अक्टूबर को प्रदेशभर में आंदोलन करेंगे। जिसमे  प्रदेश के करीब 70 हजार कर्मचारी शामिल होंगे।

read more : Home Minister’s visit to Bihar : भारत माता की जय के साथ केंद्रीय गृहमंत्री ने किया भाषण शुरू, यहां सुने पूरा भाषण

Electricity worker movement in mp : 2 अक्टूबर के आंदोलन के बाद भी हमारी मांगे पूरी नहीं हुई तो प्रदेश के सभी बिजली कर्मचारी कार्यबहिष्कार कर अनिश्चितकालीन आंदोलन पर चले जायेंगे और दिवाली पर ब्लैकआउट की स्थिति की जिम्मेदार ऊर्जा मंत्री की होगी।  संगठन ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र  लिखकर ऊर्जा मंत्री सिंह की वादाखिलाफी पर नाराजगी जाहिर की है। कर्मचारियों ने कहा की अब बातचीत सिर्फ मुख्यमंत्री से होगी। उनके निचे किसी भी मंत्री या अधिकारी से नहीं क्योंकि ऊर्जा मंत्री और विभाग के प्रमुख सचिव संजय दुबे पर अब भरोसा नहीं रहा।

और भी लेटेस्ट और बड़ी खबरों के लिए यहां पर क्लिक करें