Kinnar's Bhujariya Parv Organized in Bhopal

राजधानी में निकला किन्नरों का जुलूस, देश-विदेश से शामिल होने पहुंचे ट्रांसजेंडर, जानिए ‘भुजरिया पर्व’ में क्या है खास?

राजधानी में निकला किन्नरों का जुलूस, देश विदेश से शामिल होने पहुंचे ट्रांसजेंडर! Kinnar's Bhujariya Parv Organized in Bhopal

Edited By: , August 13, 2022 / 03:16 PM IST

भोपालः Kinnar’s Bhujariya Parv  रक्षाबंधन के दूसरे दिन मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में किन्नरों का बड़ा उत्सव मनाया जाता है। इस अवसर पर बाहर के किन्नर भी यहां आते हैं। किन्नरों के इस पर्व को भुजरिया पर्व कहा जाता है। हर साल की तरह इस साल भी भुजरिया पर्व धूमधाम से मनाया जा रहा है। किन्नरों के इस पर्व को देखने के लिए अलग-अलग शहरों से लोग राजधानी भोपाल पहुंचे हैं। बताया जा रहा है कि कन्नरों की शोभायात्रा मंगलवारा, इतवारा, बुधवारा, कोहेफिजा से पीरगेट होते हुए लालघाटी तक जाएगा। इसके बाद गुफा मंदिर के पास भुजरियों की पूजन कर विसर्जन किया जाएगा।

Read More: पति को नाले में बहाकर किया अंतिम संस्कार, फिर प्रेमी को पति बताकर 28 साल तक करती रही बात

Kinnar’s Bhujariya Parv  इस जुलूस की खासियत यह है कि इसमें किन्नर फेमस बॉलीवुड एक्ट्रेस के गेटअप में निकलकर सड़कों पर डांस करती हैं. उन्हें देखने के लिए भीड़ कई बार बेकाबू हो जाती है। शनिवार को भी सनी लियोनी से लेकर करीना कपूर, कैटरीना कैफ जैसी नामी अभिनेत्रियों के गेटअप में किन्नर सड़क पर फिल्मी गानों के साथ ठुमके लगाते हुए नजर आएंगी।

Read More: रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी..! रेलवे ने शुरू की ये नई सुविधा

स्थानीय लोगों और इतिहासकारों के अनुसार शहर में यह परंपरा नवाबी काल से चली आ रही है। हालांकि कुछ लोग इसे राजा भोज के समय से भी जोड़ते हैं। बदलते दौर में किन्नरों पर बॉलीवुड का असर ज्यादा देखने को मिलता है। राजधानी में किन्नर भुजरिया का जुलूस निकालते हैं और जुलूस निकालने के लिए इनको लाइसेंस भी प्राप्त है। किन्नर सज-धज कर बाजार में निकलते हैं और इसमें शहरवासी भी शामिल होते हैं। जुलूस में प्रदेश के अन्य शहरों के किन्नर भी आते हैं। मुख्य किन्नर सिर पर भुजरिया रखकर आगे चलते हैं वहीं साथी किन्नर नाच-गाकर भुजरिया का जश्न मनाते हैं। इन्हें देखने के लिए लोगों का हुजूम उमड़ पड़ता है। व्यवस्था बनाने के लिए पुलिस का भी खासा इंतजाम किया जाता है।

Read More: टाइपिंग में हुई मामूली गलती के कारण जेल, हाईकोर्ट ने सरकार को दो लाख रुपए मुआवजा देने का निर्देश दिया