Information about mental and physical changes will also be given in school

शिक्षा के साथ -साथ अब स्कूलों में मानसिक और शारीरिक बदलावों की भी दी जाएगी जानकारी

Now this campaign will be run in schools to make children aware, information will be given about mental and physical changes

Edited By: , November 29, 2022 / 08:20 PM IST

HEALTH AND WELLNESS PROGRAM LAUNCHED: भोपल ;मप्र के हाई स्कूल और हायर सेकेंडरी स्कूल में अब बच्चों को अब न सिर्फ स्कूली शिक्षा दी जाएंगी बल्कि इसके साथ ही उनमें होने वाले मानसिक और शारीरिक बदलावों के बारे में भी बताकर जागरूक किया जाएगा। जिसके लिए आज स्कूल शिक्षा विभाग और स्वास्थ्य विभाग ने मिलकर उमंग स्कूल-हेल्थ एंड वेलनेस कार्यक्रम को लॉन्च किया है।

यह भी पढ़े; Urfi Javed : कार से बाहर आते ही ऐसे कपड़ों में आईं नजर उर्फी जावेद, कर दी सारी हदें पार, कैमरा देख चेहरे पर हाथ लगाते हुए बचाई लाज

स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी ने कार्यक्रम को लेकर कही ये बात

HEALTH AND WELLNESS PROGRAM LAUNCHED; इस बारे में जानकारी देते हुए मप्र के स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी ने बताया कि टीनएज में बच्चों में कई तरह के शारीरिक और मानसिक बदलाव होते है जिसके बारे में बच्चों को जानकारी नहीं होती है..इस बारे में बच्चे बात कर सकें,उन्हें जानकारी हो इसके लिए उमंग कार्यक्रम को लॉन्च किया गया है। इसके तहत हर स्कूल के 2 टीचर्स को ट्रेनिंग दी जाएंगी जिसके आधार पर वह बच्चों की मदद कर सकेंगे। इसके लिए 9वीं से लेकर 12वीं तक कक्षावार मार्गदर्शिका बनायी गयी है..ट्रेन्ड टीचर्स सप्ताह में एक दिन सत्र का आयोजन करेंगे..इसके साथ ही हर क्लास से 2 बच्चों को भी हेल्थ एंड वेलनेस मैसेनजर के तौर पर रजिस्टर्ड किया जाएगा।

यह भी पढ़े; Govt teacher jobs 2022: माध्यमिक स्कूलों में साढ़े सात हजार पदों पर निकली है शिक्षकों की भर्ती, इस तारीख से करना है अप्लाई

बच्चों को जागरूक करने के लिए चलाया जा रहा कार्यक्रम

HEALTH AND WELLNESS PROGRAM LAUNCHED; इस कार्यक्रम के तहत लाइफ स्किल,हेल्थ,पोषण,प्रजनन स्वास्थ्य,संचारी और गैर संचारी बीमारियों,नशीले पदार्थों के सेवन से होने वाले दुष्प्रभाव,जेण्डर,यौन उत्पीड़न,शोषण ,साइबर सेफ्टी जैसे मुद्दों पर बच्चों से चर्चा कर उन्हें जागरूक किया जाएगा और अगर किसी बच्चे को मदद की जरूरत हो तो उसके लिए हेल्प लाइन नंबर भी जारी किया गया है। ताकि ज्यादा से ज्यादा बच्चे शारीरिक और मानसिक बदलाव से जुड़ी जानकारी बेहतर तरीके से जान सके।