This Three Zodiac Signs Luck will Shine From Basant Panchami

बसंत पंचमी के दिन से इन राशि वालों की खुल जाएगी किस्मत, परिवार में सुख शांति के साथ मिलेगा धन वैभव

शिक्षा की देवी माता सरस्वती की पूजा पीले फूल, द्वारा की जा जाती है! This Three Zodiac Signs Luck will Shine From Basant Panchami

Edited By: , January 24, 2023 / 09:52 PM IST

रायपुर: This Three Zodiac Signs Luck will Shine From Basant Panchami बसंत ऋतु को ऋतुओं का राजा माना जाता है। यह पर्व बसंत ऋतु के आगमन का सूचक है। इस अवसर पर प्रकृति के सौंदर्य में अनुपम छटा का दर्शन होता है। पेड़ों के पुराने पत्ते झड़ जाते हैं और बसंत में उनमें नयी कोपलें आने लगती हैं। माघ महीने की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी होती है तथा इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत होती है। बसन्त पंचमी के दिन भगवान श्रीविष्णु, श्री कृ्ष्ण-राधा व शिक्षा की देवी माता सरस्वती की पूजा पीले फूल, गुलाल, अर्ध्य, धूप, दीप, आदि द्वारा की जा जाती है।

Read More: Guru Gochar 2023: इस दिन अस्त होंगे गुरु, इन राशि वाले लोगों को व्यापार और नौकरी में करना होगा समस्यायों का सामना, झेलना पड़ेगा नुकसान

This Three Zodiac Signs Luck will Shine From Basant Panchami पूजा में पीले व मीठे चावल व पीले हलुवे का श्रद्धा से भोग लगाकर पूजा करने की परम्परा है। माता सरस्वती बुद्धि व संगीत की देवी है। पंचमी के दिन को माता सरस्वती के जन्मोत्सव के रुप में भी मनाया जाता है। यह पर्व ऋतुओं के राजा का पर्व है। इन दिन से बसंत ऋतु से शुरु होकर, फाल्गुन माह की कृ्ष्ण पक्ष की पंचमी तक रहता है। यह पर्व कला व शिक्षा प्रेमियों के लिये विशेष महत्व रखता है।

Read More: गुमनामी की जिंदगी जी रहा 90 के दशक का ये सुपरस्टार अभिनेता, तस्वीर देखकर पहचान नहीं पाओगे…

एक किंवदन्ती के अनुसार इस दिन ब्रह्मा जी ने सृ्ष्टि की रचना की थी। यह त्यौहार उतर भारत में पूर्ण हर्ष- उल्लास से मनाया जाता है। एक अन्य पौराणिक कथा के अनुसार इस दिन भगवान श्री राम ने माता शबरी के झूठे बेर खाये थे। इस उपलक्ष्य में बसन्त पंचमी का त्यौहार मनाया जाता है। बसंत पंचमी को अबूझ मुहूर्तों में शामिल किया जाता है। बसंत पंचमी के दिन शुभ कार्य जिसमें विवाह, भवन निर्माण, कूप निर्माण, फैक्ट्री आदि का शुभारम्भ, शिक्षा संस्थाओं का उद्धघाटन करने के लिये शुभ मुहूर्त के रुप में प्रयोग किया जाता है।

Read More: कब है बसंत पंचमी? क्यों की जाती है इस दिन माता सरस्वती की पूजा का है? जानिए महत्व

सिंह –
नये योजना से कार्य करने से सफलता अवष्य प्राप्त होगी…
नये लोगों से व्यवहारिक दूरी बनाये रखना उचित होगा….
असंभावित हानि से बचने के लिए के निम्न उपाय करने चाहिए –
ऊॅ कें केतवें नमः का जाप कर दिन की शुरूआत करें…
सूक्ष्म जीवों की सेवा करें…

धनु –
आत्मविष्वास आज फायदेमंद होगा…
कार्यक्षेत्र में सकारात्मक बदलाव भी दे सकता है….
एलर्जीक चीजों से बचें….
शनि से उत्पन्न कष्टों की निवृत्ति के लिए –
‘‘ऊॅ शं शनिश्चराय नमः’’ का जाप कर दिन की शुरूआत करें,
काले वस्त्र का दान करें…

मकर –
धार्मिक स्थल की यात्रा के योग….
जीवनसाथी को स्वास्थगत कष्ट…

मंगल के दोषों की निवृत्ति के लिए –
ऊॅ अं अंगारकाय नमः का एक माला जाप करें..
मसूर की दाल, गुड दान करें…

मीन –
आज घर पर मेहमान आने के योग….
घरेलू व्यवस्था गड़बड़ हो सकती है…
बजट बिगड़ने से मानसिक तनाव…
गुरू के लिए निम्न उपाय करें-
ऊॅ गुं गुरूवे नमः का जाप करें…
कुल पुरोहित, ब्राह्ण्य को यथासंभव दान दें,

 

 

देश दुनिया की बड़ी खबरों के लिए यहां करें क्लिक