स्वर्णिम इतिहास लिखने की दहलीज पर IAS अधिकारी सुहास यथिराज, रविवार को आखिरी मुकाबला |

स्वर्णिम इतिहास लिखने की दहलीज पर IAS अधिकारी सुहास यथिराज, रविवार को आखिरी मुकाबला

आईएएस अधिकारी सुहास यथिराज स्वर्णिम इतिहास लिखने की दहलीज पर

: , November 29, 2022 / 07:47 PM IST

नोएडा, 4 सितंबर (भाषा)  तोक्यो पैरालंपिक खेलों के बैडमिंटन स्पर्धा के फाइनल में पहुंच कर ऐतिहासिक कारनामा करने वाले भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारी सुहास एल. यथिराज रविवार को जब इन खेलों के अपने आखिरी मुकाबले में उतरेंगे तो उनके पास इस उपलब्धि को स्वर्णिम बनाने का मौका होगा। फाइनल में अगर वह हार भी जाते है तो रजत पदक के साथ गौतम बुद्ध नगर (नोएडा) के 38 वर्षीय जिलाधिकारी (डीएम) पैरालम्पिक में पदक जीतने वाले पहले आईएएस अधिकारी के रूप में इतिहास बनायेंगे।

read more: व्यापारी का लाखों रुपए लेकर फरार हुआ कर्मचारी, जा रहे थे बैंक में पैसे जमा करने

सुहास एसएल4 श्रेणी में फिलहाल विश्व रैंकिंग में तीसरे स्थान पर है। उन्होंने शनिवार को सेमीफाइनल में जीत दर्ज करने से पहले यहां ग्रुप चरण तीन मैच खेले हैं। ग्रुप चरण के एक मुकाबले को छोड़कर अब तक खेले तीनों मैचों में उनका प्रदर्शन दबदबा वाला रहा है। पहले दो मैचों को 20 मिनट से भी कम समय में अपने नाम करने वाले सुहास ने सेमीफाइनल में  इंडोनेशिया के फ्रेडी सेतियावान को 31 मिनट में 21 . 9, 21 . 15 से हराया । अब उनका सामना शीर्ष वरीयता प्राप्त फ्रांस के लुकास माजूर से होगा ।

कर्नाटक के 38 वर्ष के सुहास के टखनों में विकार है । कोर्ट के भीतर और बाहर कई उपलब्धियां हासिल कर चुके सुहास कम्प्यूटर इंजीनियर है और 2007 बैच के आईएसएस अधिकारी भी। वह 2020 से नोएडा के जिलाधिकारी हैं और कोरोना महामारी के खिलाफ जंग में मोर्चे से अगुवाई कर चुके हैं ।

read more: नए स्ट्रेन का खौफ.. इन 7 देशों से भारत आने वालों के लिए एयरपोर्ट पर ये रिपोर्ट अनिवार्य

सेवारत और सेवानिवृत्त प्रशासनिक अधिकारियों के समूह आईएएस संघ ने ट्वीट किया, ‘‘ इतिहास बन रहा है। सुहास एल वाई (आईएएस, डीएम जीबी नगर (नोएडा), उत्तर प्रदेश, भारत) पुरुष एकल पैरा-बैडमिंटन एसएल4 वर्ग के फाइनल में। उन्होंने सेमीफाइनल में इंडोनेशिया के एस फ्रेडी को 2-0 से हराया। अब पांच सितंबर को स्वर्ण के लिए खेलेंगे।’’

उनके फाइनल में पहुंचने के साथ ही सोशल मीडिया पर #चीयर4सुहास ‘ट्रेंड’ करने लगा। नोएडा के कई निवासियों के व्हाट्सएप ग्रुप भी उनके डीएम के खेल की उपलब्धि पर बधाई संदेशों से भरे हुए हैं। एनआईटी कर्नाटक से कंप्यूटर इंजीनियर के रूप में स्नातक की उपाधि प्राप्त लेने वाले सुहास इससे पहले प्रयागराज, आगरा, आजमगढ़, जौनपुर, सोनभद्र जिलों के जिलाधिकारी रह चुके है।