बांग्लादेश नौका हादसा : लापता यात्रियों की तलाश के लिए दूसरे दिन भी जारी रहा अभियान |

बांग्लादेश नौका हादसा : लापता यात्रियों की तलाश के लिए दूसरे दिन भी जारी रहा अभियान

बांग्लादेश नौका हादसा : लापता यात्रियों की तलाश के लिए दूसरे दिन भी जारी रहा अभियान

: , December 25, 2021 / 06:57 PM IST

(अनीसुर रहमान)

ढाका, 25 दिसंबर (भाषा) दक्षिणी बांग्लादेश में सुगंधा नदी में तीन मंजिला नौका में आग लगने की घटना के बाद लापता यात्रियों की तलाश का अभियान शनिवार को दूसरे दिन भी जारी रहा। नौका में आग लगने से कम से कम 41 लोगों की मौत हो गई और 150 से ज्यादा लोग झुलस गए। नौका पर 800 से ज्यादा यात्री सवार थे।

पुलिस और दमकल के अधिकारियों ने बताया कि ढाका से बारगुना जाते समय नौका एमवी अभिजन-10 के इंजन कक्ष में शुक्रवार को स्थानीय समयानुसार तड़के तीन बजे आग लग गई। हादसे के बाद से कई यात्री लापता हैं।

झलकथी जिले में जिला प्रशासन के एक अधिकारी ने संवाददाताओं को बताया, ‘‘तटरक्षक बल, अग्निशमन सेवा के अधिकारी और पुलिस अब भी शवों की तलाश में जुटे हैं क्योंकि हमें लापता यात्रियों की सही संख्या के बारे में पता नहीं है।’’ अधिकारियों ने कहा कि सैकड़ों लोग नदी के किनारे एकत्र हो गए और अपने लापता रिश्तेदारों की तलाश के लिए इंजन से चलने वाली नौकाओं में बचाव दल के साथ शामिल हो गए।

घटनास्थल पर शुक्रवार को पहुंचे जहाजरानी राज्य मंत्री खालिद महमूद चौधरी ने बताया कि 310 यात्रियों की सूची मिली है लेकिन अनुमान है कि नौका में ज्यादा यात्री सवार होंगे।

दमकल सेवा के अधिकारी ने पूर्व में बताया था कि नौका में धुआं भरने के कारण दम घुटने से ज्यादातर लोगों की मौत हो गई। कई यात्री नौका से नदी में कूद गए लेकिन तैरना नहीं जानने के कारण डूब गए। अधिकारियों ने कहा कि संभवत: मृतकों में अधिकतर बारगुना के निवासी थे। अब तक 37 शवों को दफनाने के लिए बारगुना भेजा गया है लेकिन उनमें से केवल 14 की ही पहचान हो पाई।

बारगुना के उपायुक्त हबीबुर रहमान ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमने 14 शव रिश्तेदारों को सौंप दिए हैं.. बाकी शव का निर्धारित प्रक्रिया के तहत अंतिम संस्कार किया जाएगा।’’ उन्होंने कहा कि अज्ञात शवों के डीएनएन नमूने सुरक्षित रख लिए गए हैं।

आग लगने के कारणों का पता लगाने के लिए अंतर्देशीय जल परिवहन नियामक अधिकारियों, दमकल कर्मियों और पुलिस की सात सदस्यीय समिति का गठन किया गया है। समिति को तीन दिन में रिपोर्ट देने को कहा गया है।

भाषा आशीष माधव

माधव

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

#HarGharTiranga