चीन की बेशर्मी, प्राइवेट पार्ट से ले रहा कोरोना टेस्ट का नमूना! 5 सेंटीमीटर अंदर तक ले जाते हैं किट और..

कोरोना टेस्टिंग को लेकर चीन विवादों में घिर गया है। दरअसल चीन कोरोना का टेस्ट करने के लिए खिलाड़ियों के प्राइवेट पार्ट से सैंपल ले रहा है।

: , January 22, 2022 / 02:51 PM IST

बीजिंग। जानलेवा कोरोना वायरस दुनिया में अब ओमिक्रॉन के रूप में सामने आया है। कई देश इस बीमारी के रोकथाम के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है। इस बीच चीन की एक और बेशर्मी सामने आई है। इस बार भी कोरोना टेस्टिंग को लेकर चीन विवादों में घिर गया है। दरअसल चीन कोरोना का टेस्ट करने के लिए खिलाड़ियों के प्राइवेट पार्ट से सैंपल ले रहा है।

CLICK TO JOIN  𝕎𝕙𝕒𝕥𝕤 𝕒𝕡𝕡  BREAKING NEWS  GROUP 

कोरोना ऐसा वायरस है जो बीते दो सालों से लोगों को मौत के मुंह में घकेल रहा है। वहीं इस बीमारी की शुरुआत चीन से ही हुई। भले ही चीन इस बात से सहमत ना हो, लेकिन चीन को ही इसके लिए जिम्मेदार बताया जाता रहा है। वहीं महामारी का खतरा अभी दुनिया के सिर पर मंडरा रहा है। इस बीच चीन से एक शर्मनाक खबर सामने आ रही है।

यह भी पढ़ें:  मोतीमहल गड़े सोने की तलाश कर रहे तांत्रिक, तंत्र-मंत्र के साथ कर रहे थे खुदाई, अचानक आ धमके ग्रामीण और चौकीदार

खबर यह है कि बीजिंग शीतकालीन ओलंपिक से पहले खिलाड़ियों का कोरोना सैंपल लिया जा रहा है। वहीं उन खिलाड़ियों का सैंपल नाक और मुंह से नहीं बल्कि प्राइवेट पार्ट से लिया जा रहा है। बता दें कि यह टेस्ट काफी विवादित है लेकिन चीन के मुताबिक इस टेस्ट से कोरोना को डिटेक्ट करने का सबसे सुरक्षित और सही तरीका बताया जा रहा है।

यह भी पढ़ें:  UP Assembly Election 2022 के लिए भाजपा ने जारी किया थीम सॉन्ग, गाने में अयोध्या, काशी और मथुरा को बनाया केंद्र बिंदु

बता दें कि पिछले साल भी चीन द्वारा एनल स्वैब टेस्ट करना विवादों में रहा था। वहीं अब ओलंपिक का हिस्सा बनने आए खिलाड़ियों को इस विवादित टेस्ट से गुजरना पड़ रहा है। बात दे कि एनल टेस्ट में संक्रमित इंसान के प्राइवेट पार्ट के 5 सेंटीमीटर अंदर तक टेस्टिंग किट को घुसाया जाता है। इसके बाद इसे घुमाया जाता है। जांच से पहले स्वाब किट को तोड़ दिया जाता है। टेस्ट की इन खबरों से चीन की शर्मनाक चेहरा सामने आया है।