जिस भारत पर अंग्रेजों ने किया था राज.. अब देश का बेटा बनेगा ब्रिटेन का पीएम

जिस भारत पर अंग्रेजों ने किया था राज.. अब देश का बेटा बनेगा ब्रिटेन का पीएम

Edited By: , January 14, 2022 / 04:48 PM IST

नई दिल्ली।  कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन कर अपने निवास 10 डाउनिंग स्ट्रीट के गार्डन में पार्टी करने के आरोप में ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन घिर गए हैं। ऐसे में ब्रिटने की सट्टा कंपनी बेटफेयर ने दावा किया है कि बढ़ते दबाव के चलते जॉनसन जल्द इस्तीफा दे सकते हैं और भारतवंशी वित्त मंत्री ऋषि सुनक उनका स्थान ले सकते हैं।

पढ़ें- सेक्स के बाद चल नहीं पा रही थी मॉडल, पहली बार कंडोम के साथ बनाए थे शारीरिक संबंध.. वीडियो जारी कर सबको कर दिया हैरान

बेटफेयर के अनुसार मई 2020 में ब्रिटेन में कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान प्रधानमंत्री कार्यालय डाउनिंग स्ट्रीट में ड्रिंक पार्टी आयोजित करने पर खुलासों के बाद न केवल विपक्षी दल बल्कि उनकी खुद की कंजर्वेटिव पार्टी भी जॉनसन पर इस्तीफे के लिए दबाव डाल रही है।

पढ़ें- अजीबोगरीब, यहां शादी से पहले गधी से संबंध बनाते हैं युवक, सभी को करना पड़ता है प्रथा का पालन.. वजह जानकर चौंक जाएंगे आप

बेटफेयर के सैम रॉसबॉटम के अनुसार यदि जॉनसन हटते हैं तो ऋषि सुनक के ब्रिटिश पीएम बनने की संभावना ज्यादा है। पीएम पद की रेस में विदेश मंत्री लिज ट्रूस और फिर कैबिनेट मंत्री माइकल गोव का नाम है। हालांकि पीएम पद की दौड़ में पूर्व विदेश मंत्री जेरेमी हंट, भारतीय मूल की गृह मंत्री प्रीति पटेल, स्वास्थ्य मंत्री साजिद जाविद और कैबिनेट मंत्री ओलीवर डॉउडेन भी हैं।

पढ़ें- VI का जोरदार ऑफर! हर माह 48 रुपए बचत के साथ 2 GB डेटा फ्री.. जानिए

पीएम बोरिस जॉनसन के मुख्य निजी सचिव मार्टिन रेनॉल्ड्स ने 2020 में कई लोगों को डाउनिंग स्ट्रीट में आयोजित पार्टी के लिए कथित तौर पर मेल भेजकर न्योता दिया गया था। उस वक्त देश में कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए सार्वजनिक समारोहों पर रोक लगी हुई थी।

पढ़ें- स्कूल टीचर अब बन गई फेमस एडल्ट स्टार.. शिक्षक की नौकरी को छोड़कर शौक किया पूरा

जॉनसन ने जताया खेद, मानी पार्टी में शामिल होने की बात
जॉनसन ने अब इस मामले में खेद जताते हुए पहली बार माना कि वह दावत में शामिल हुए थे। जॉनसन ने कहा कि उन्हें लगता था कि यह आयोजन उनके कामकाज से संबंधित आयोजनों के दायरे में रहेगा। निमंत्रण-पत्र के मीडिया में आने के बाद से जॉनसन पर विपक्षी लेबर पार्टी के साथ ही उनकी अपनी कंजर्वेटिव पार्टी के सदस्यों की ओर से भी अत्यंत दबाव है।