'needs a suitable groom! one will do except teacher.

‘वधू के लिए योग्य वर चाहिए! शिक्षक को छोड़कर कोई भी चलेगा’ चर्चा का विषय बना शादी का विज्ञापन

'वधू के लिए योग्य वर चाहिए! शिक्षक को छोड़कर कोई भी चलेगा' ! 'needs a suitable groom! one will do except teacher.

Edited By: , June 28, 2022 / 12:01 PM IST

कोलकाता: needs suitable groom अक्सर ये देखा गया है कि शादी के लिए लड़की वालों की ओर से ये खास मेंसन किया जाता है कि सरकारी नौकरी वालों को प्राथमिकता दी जाएगी। लेकिन पश्चिम बंगाल से इसके ठीक विपरीत मामला सामने आया है। जी हां ये बात जानकर आपको हैरानी होगी कि मैटरिमोनियल विज्ञापन में विशेष रूप से उल्लेख किया गया है कि शिक्षक को छोड़कर कोई भी चलेगा। इससे भी हैरानी की बात ये है कि इस संबंध में ये हवाला दिया गया है कि शिक्षक नियुक्ति घोटाले के बाद वह काफी सतर्क हैं।>>*IBC24 News Channel के WhatsApp  ग्रुप से जुड़ने के लिए Click करें*<<

Read More: यात्रीगण कृपया ध्यान दें! रेलवे ने 18 और ट्रेनों को किया रद्द, घर से निकलने के पहले देख लें सूची 

needs suitable groom बता दें कि राज्य में कलकत्ता हाई कोर्ट के निर्देश पर शिक्षक नियुक्ति घोटाले में सैकड़ों शिक्षकों बर्खास्त कर दिया गया है। हजारों शिक्षकों की नौकरी पर तलवार लटक रही है। पूरे मामले की सीबीआइ जांच कर रही है। इस घोटाले का आम लोगों पर भी असर पड़ा है। इसका ताजातरीन उदाहरण उत्तर दिनाजपुर में देखने को मिला है। यहां एक परिवार ने लडक़ी के वर के लिए दैनिक समाचार पत्र में अनोखा विज्ञापन दिया है। इसमें लिखा गया है कि शिक्षक को छोडक़र लडक़ी के लिए सुयोग्य वर चाहिए। कुछ दिन अलीपुरदुआर में ऋण लेने गए प्राथमिक विद्यालय के एक शिक्षक से बैंक अधिकारी ने शिक्षक पात्रता परीक्षा (टेट) पास से संबंधित दस्तावेज मांगे थे।

Read More: छत्तीसगढ़ में सुस्त पड़ा मानसून, गर्मी बढ़ने से घरों में फिर चलने लगे एसी और कुलर, बढ़ी बिजली की डिमांड

जिले के दालखोला के एक अभिभावक रंजन दास ने कहा कि जिस तरह से उच्च न्यायालय ने शिक्षक भर्ती में भ्रष्टाचार पर नकेल कसी है, उससे भ्रष्ट लोगों की नौकरी जाने का खतरा है। ऐसे में लडक़ी का परिवार उसके भविष्य को सुनिश्चित करने के लिए शिक्षक को छोडक़र वर की तलाश में है। लेकिन इस तरह से विज्ञापन नहीं देना चाहिए। पूर्व शिक्षक मोहम्मद सहिदुल इस्लाम ने कहा कि यह तो उलट पुराण की तरह है। एक समय था जब परिवार अपनी बेटी के लिए शिक्षक की तलाश करते थे। इसके लिए भारी-भरकम दहेज भी देते थे। तृणमूल प्राथमिक शिक्षक संघ के जिला सचिव गौरांग चौहान ने कहा कि लडक़ी के परिवार ने इस तरह के विज्ञापन देकर शिक्षक समुदाय का अपमान किया है।

Read More: अब बिना गारंटी मिल रहा लोन, समय पर चुका दिया तो फ्यूचर में मिलेगा 5 गुना पैसा! 

 

#HarGharTiranga