असामयिक मौत का इशारा हो सकता है शरीर में दिख रहा ये लक्षण, स्टडी में दावा

आमतौर पर एक इंसान की वृद्धावस्था आनुवांशिक और लाइफस्टाइल पर निर्भर करती है, उम्र के साथ इंसान की थकावट होने लगती है। एक नई स्टडी के मुताबिक, थकावट किसी इंसान की असामयिक यानी समय से पहले मौत का संकेत हो सकती है।

: , January 27, 2022 / 03:20 PM IST

sign of untimely death: आमतौर पर एक इंसान की वृद्धावस्था आनुवांशिक और लाइफस्टाइल पर निर्भर करती है, उम्र के साथ इंसान की थकावट होने लगती है। एक नई स्टडी के मुताबिक, थकावट किसी इंसान की असामयिक यानी समय से पहले मौत का संकेत हो सकती है।

जर्नल ऑफ ग्रोन्टोलॉजी: मेडिकल साइंसेज में प्रकाशित एक स्टडी के मुताबिक, तनाव के कारण होने वाली मानसिक और शारीरिक थकावट इंसान के जल्दी मरने का संकेत दे सकती है। इस अध्ययन के लिए 60 साल या इससे ज्यादा उम्र के 2,906 सैम्पल्स को देखा गया था, स्टडी में हिस्सा लेने वाले वॉलंटियर्स से शोधकर्ताओं ने कुछ एक्टिविटीज के आधार पर एक से पांच तक के स्केल पर थकावट का स्तर पूछा था।

read more: घर के दरवाजों में फंसकर करती है मोटी कमाई! 200 किलो से ज्यादा है महिला का वजन

इसमें 30 मिनट की वॉक, लाइट हाउसवर्क और हैवी गार्डनिंग जैसी एक्टविटीज शामिल थी, मृत्युदर को प्रभावित करने वाले सभी कारकों को समझने के बाद शोधकर्ताओं ने पाया कि एक्टविटीज में हिस्सा लेने वाले जिन वॉलंटियर्स ने ज्यादा थकावट महसूस की, उनमें असामयिक मौत का खतरा ज्यादा था। इन जोखिमों डिप्रेशन, पहले से मौजूद या कोई लाइलाज बीमारी, उम्र और लिंग जैसे कारक शामिल थे।

पिट्स ग्रेजुएट स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के एपिडेमायोलॉजी डिपार्टमेंट में एसोसिएट प्रोफेसर और स्टडी की प्रमुख लेखक नैन्सी डब्लू ग्लिन ने कहा, ‘ये एक ऐसा वक्त है जब लोग ज्यादा फिजिकली फिट रहने के लिए न्यू ईयर पर नए-नए संकल्प ले रहे हैं। मुझे उम्मीद है कि हमारे आंकड़े लोगों को एक्सरसाइज के महत्व को समझने में मदद करेंगे।

read more: अभी नहीं खुलेंगे स्कूल और अन्य शैक्षणिक संस्थान, DDMA की बैठक में लिया गया फैसला

एक पिछली स्टडी में इस बात के संकेत मिले थे कि ज्यादा फिजिकली एक्टिव रहने से इंसान के अंदर थकावट का स्तर कम होता है। जबकि हमारा पहला ऐसा अध्ययन है जिसने अधिक गंभीर शारीरिक थकान को अर्ली डेथ से जोड़ा है, स्केल पर लोवर स्कोर इंसान के ज्यादा ऊर्जावान और लंबी आयु की ओर इशारा करते हैं, एक पिछली स्टडी के मुताबिक, रोजाना नियमित 15 मिनट की फिजिकल एक्टविटी इंसान की जिंदगी में तीन साल का इजाफा कर सकती है।

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)