IBC Open Window: गहलोत बने Congress President तो कौन बनेगा Rajsthan का मुख्यमंत्री, पायलेट क्यों पिछड़े! |

IBC Open Window: गहलोत बने Congress President तो कौन बनेगा Rajsthan का मुख्यमंत्री, पायलेट क्यों पिछड़े!

पिछले दिनों हमने आपको कांग्रेस के वे 10 नाम बनाए थे जिन्हे कांग्रेस की अध्यक्षी दी जा सकती है। इनमें सबसे ऊपर थे अशोक गेहलोत। बाकी नामों में कमलनाथ, कुमारी शैलजा, मुकुल वासनिक, अंबिका सोनी, पी चिदंबरम, मल्लिकार्जुन खड़गे, प्रियंका वाड्रा जैसे नेता शुमार थे।

Edited By: , August 28, 2022 / 12:28 PM IST

Gehlot becomes the Congress President: रायपुर। 28 अगस्त को कांग्रेस की केंद्रीय कार्य समिति की बैठक है। समिति के अध्यक्ष मधुसूदन मिस्त्री तमाम कार्यसमिति सदस्यों से रायशुमारी करके कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव का शिड्यूल जारी करेंगे। इसी दौरान यह भी तय होगा कि चुनाव कैसे कराए जाएं और अध्यक्ष के लिए चुनाव लड़ने की कवायद क्या हो। इस कार्य समिति में अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी नहीं रहेंगी। वे अपने इलाज के लिए विदेश में हैं। ऐसे में इसमें कोई बड़ा फैसला हो ऐसा लगता नहीं। इस प्रक्रिया के बीच में गुलाम नबी आजाद जैसे सीनियर नेताओं के कांग्रेस छोड़कर जाने से इस प्रक्रिया पर कोई असर नहीं पड़ेगा। कांग्रेस के कई नेताओं ने आजाद पर हमले बोलने भी शुरू कर दिए हैं। इसका मतलब साफ है कि कांग्रेस किसी जी-23 को एंटरटेन करने नहीं जा रही।

पिछले दिनों हमने आपको कांग्रेस के वे 10 नाम बनाए थे जिन्हे कांग्रेस की अध्यक्षी दी जा सकती है। इनमें सबसे ऊपर थे अशोक गेहलोत। बाकी नामों में कमलनाथ, कुमारी शैलजा, मुकुल वासनिक, अंबिका सोनी, पी चिदंबरम, मल्लिकार्जुन खड़गे, प्रियंका वाड्रा जैसे नेता शुमार थे।

अशोक गेहलोत से सोनिया गांधी ने किया आग्रह

Gehlot becomes the Congress President: पार्टी सूत्रों के मुताबिक अशोक गेहलोत से सोनिया गांधी ने अध्यक्ष बनने का आग्रह किया है। लेकिन गेहलोत राजस्थान नहीं छोड़ना चाहते। इसलिए वे बारबार राहुल गांधी को इसके लिए मनाने की बात कह रहे हैं। फिलहाल राहुल गांधी तैयार नहीं हैं, लेकिन अंतिम पर समय पर वे तैयार हो भी सकते हैं। रविवार 28 अगस्त को होने जा रही केंद्रीय कार्य समिति की बैठक पर सबकी नजर रहेगी। पार्टी सूत्रों के मुताबिक अशोक गेहलोत भी मन बना रहे हैं। लेकिन वे राजस्थान में सचिन पायलट को नहीं चाहते। ऐसे में उनके सामने ये संकट है कि उनके हटते ही राजस्थान में सचिन पायलेट मुख्यमंत्री बन जाएंगे। इसका साफ अर्थ यह होगा कि सचिन उन्हें राजस्थान में दखल नहीं देने देंगे।

राजस्थान में सीपी जोशी को बनाया जा सकता है मुख्यमंत्री

एक तरह से देखें तो अशोक गेहलोत इसे अपनी राजनीति का अंत मानकर चल रहे हैं। इसीलिए उन्होंने सचिन पायलेट का रास्ता रोकने की शर्त रखी है। ऐसे में सबसे बड़ी खबर ये है कि राजस्थान में सीपी जोशी को मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है। बताया जाता है कि सीपी केंद्र में मंत्री भी रह चुके हैं और सोनिया-राहुल के करीबी माने जाते हैं। इसके अलावा सीपी जोशी के अडानी समेत अन्य व्यावसायिक परिवारों से अच्छे ताल्लुक हैं। पार्टी चाहेगी कि जोशी अपने ताल्लुकात को इस्तेमाल करें और राजस्थान की जिम्मेदारी निभाते हुए पार्टी को 2024 की लड़ाई के लिए आर्थिक रूप से तैयार करें। बहरहाल कांग्रेस के 28 अगस्त की बैठक और संभावित चुनाव शिड्यूल का हमें इंतजार करना होगा।