CMO के पैर पर गिरकर बुजुर्ग बोले- मैडम हमारे गांव के बच्चों की जान बचा लीजिए

मैडम हमारे गांव के बच्चों की जान बचा लीजिए! mathura viral fever old man touch cmo feet viral video child death up government

: , September 4, 2021 / 10:31 PM IST

फिरोजाबाद: कोरोना से थोड़ी राहत मिलने के बाद अब उत्तर प्रदेश के कई जिलों में वायरल बुखार कहर मचा रहा है। वायरल बुखार का सबसे ज्यादा प्रभाव गाजियाबाद जिले में देखने को मिला है। हालात ऐसे हैं कि लोग डरे हुए हैं और गांव-घर छोड़कर पलायन करने लगे हैं। वहीं, गांव में जब इलाके के सीएमओ पहुंचे तो अपना दुखड़ा सुनाने ग्रामीणों की भीड़ उमड़ पड़ी। इस दौरान का एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।

Read More: छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक संघ की मांगों का परीक्षण करने गठित की जाएगी समिति, CM ने प्रतिनिधि मंडल को दिया आश्वासन

मिली जानकारी के अनुसार फरह के गांव कोह में अब तक 11 बच्चों की मौत हो चुकी है। गांव में बड़ी संख्या में लोग बीमार हैं। कुछ मथुरा के अस्पतालों में तो कुछ आगरा में इलाज करा रहे हैं। गांव में स्वास्थ्य विभाग की टीम डेरा डाले हुए है। दो दिन पूर्व सीएमओ डॉ. रचना गुप्ता जब टीम के साथ गांव पहुंचीं तो गांव के बुजुर्ग किशन सिंह ने रोते हुए सिर उनके पैरों में रख दिया और बच्चों की जान की भीख मांगने लगे। सीएमओ ने उनसे पैर न छूने को कहते हुए ढांढ़स बंधाया।

Read More: नहीं काम करेगा WhatsApp, कंपनी ने यूजर्स को किया अलर्ट, देखिए कहीं सूची में आपका फोन भी तो नहीं

रोते हुए किशन सिंह ने कहा कि हमारी कोई गलती हो तो बताओ, आप नहीं बताएंगी तो कौन बताएगा? उन्होंने बिलखते हुए कहा कि कैसे भी करके उनके गांव के बच्चों को बचा लो। उनका नाती मर गया। गांव के तमाम बच्चे अस्पतालों में भर्ती हैं। गांव की महिलाएं भर्ती हैं। एक-एक करके उनकी आंखों के सामने उनके नौनिहाल बुखार के कारण जान गंवा रहे हैं। पूरा गांव त्राहि-त्राहि कर रहा है। यह देखकर वहां मौजूद सभी अधिकारी व ग्रामीणों की आंखें भी नम हो गईं। सीएमओ ने ग्रामीणों से कहा कि आपके बच्चे कहां-कहां भर्ती हैं, इसकी लिस्ट बनाकर दो, हम दिखवाते हैं। इस वीडियो के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद अन्य लोगों भी द्रवित हो गए। कोह गांव की घटना से क्षेत्र के हर व्यक्ति के दिल में गम और दहशत है।

Read More: कांग्रेस ने कहा- अतिक्रमण हटाने के नाम पर कर रहे परेशान, प्रवक्ता के खिलाफ जिलाबदर की कार्रवाई पर जांच की मांग