Private photos and videos will be leaked from mobile know reason

Private Photo and video Leak: भूलकर भी न करें ये काम, फोन से Leak हो जाएंगे प्राइवेट फोटो और वीडियो, जानें वजह

Private Photo and video Leak: आजकल लोगों के मोबाइल से फोटोज और वीडियोज लीक हो जाते हैं। इसे लेकर लोगों के जेहन में तमाम तरह की बातें रहती ....

Edited By: , November 29, 2022 / 08:39 PM IST

Private Photo and video Leak: आजकल लोगों के मोबाइल से फोटोज और वीडियोज लीक हो जाते हैं। इसे लेकर लोगों के जेहन में तमाम तरह की बातें रहती हैं। ये कैसे हो गया? किसने लीक कर दिया। कौन है वो साइबर जासूस? वगैरह-वगैरह। आज हम इसी मुद्दे पर आपके साथ बातें शेयर कर रहे हैं। फोन से प्राइवेट फोटो लीक होना कोई नहीं बात नहीं है। पहले भी कई बार फोन्स से प्राइवेट फोटो लीक होने की रिपोर्ट्स आ चुकी हैं। फोन में सिक्योरिटी होने के बाद भी मोबाइल से वीडियो-फोटो लीक हो जाते हैं। इसके कई कारण हो सकते हैं।

यह भी पढ़े; ना कोई OTP ना कोई Password फिर भी गायब हो गए 91 हजार, पीड़ित ने

अगर आपने किसी को अपनी प्राइवेट फोटो सेंड किया है और वो इसे किसी और ट्रांसफर कर देता है तो फोटोज लीक हो सकते हैं। इसके अलावा किसी को अगर आपके फोन का एक्सेस मिल गया है तो वो भी अपने फोन में फोटो-वीडियो को ट्रांसफर कर फाइल लीक कर सकता है। फोन से फोटो-वीडियो लीक होने से बचने के लिए आप क्या कर सकते हैं। सबसे पहला कारण काफी कॉमन है और इसके लिए किसी टेक्निकल नॉलेज की जरूरत नहीं है।

फोटो-वीडियो लीक में थर्ड पार्टी मैलेशियस ऐप्स का भी इसमें अहम योगदान होता है। कई ऐसे मैलेशियस या वायरस वाले ऐप्स होते हैं जो आपसे कई तरह की परमिशन ले लेते हैं। इससे इन ऐप्स को आपके फाइल का भी एक्सेस मिल जाता है। इन फाइल्स को रिमोट सर्वर पर अपलोड कर दिया जाता है। जहां से स्कैमर्स इन फाइल्स को थर्ड पार्टी को बेच देते हैं और आपकी इमेज लीक हो जाती है।

यह भी पढ़े; मरे हुए लोगों की ​सिक्योरिटी में तैनात हुई ये लड़की, 45000 रुपये मिलेगी सैलरी

क्लाउड ड्राइव से भी हो सकता है डेटा लीक

इसका यूज वो क्लाउड जैसे गूगल ड्राइव, ड्रॉपबॉक्स पर स्टोर फोटो या डॉक्यूमेंट को एक्सेस करने के लिए करते हैं। इससे बचने के लिए कभी भी फिशिंग वेबसाइट पर अपनी डिटेल्स ना भरें सोशल मीडिया या वॉट्सऐप पर मिले अनजान लिंक से सावधान रहें। हैकर्स स्पाईवेयर के जरिए भी लोगों को टारगेट करते हैं। स्पाईवेयर यानी जासूसी सॉफ्टवेयर आपके फोन का पूरा डेटा एक्सेस करता है। इसमें फोटो और वीडियो भी शामिल होते हैं। इसके जरिए हैकर्स टारगेट को ब्लैकमेल करते हैं या इसे लीक कर देते हैं।

यह भी पढ़े; Chhattisgarh-Madhya Pradesh Elephant News: गजराज का गदर | बुजुर्ग को कुचला और पति-पत्नी पर हमला

ये करें उपाय-

  • ऐसे में बेहतर यही होगा अपने मोबाइल को लॉक करके रखें। इसके अलावा किसी को भी अपनी प्राइवेट इमेज सेंड ना करें।
  • दूसरे कारणों से भी फोटो या वीडियो लीक हो सकते हैं। हालांकि, इसके लिए टेक्निकल नॉलेज की जरूरत होती है।
  • ऐसे में जरूरी है कि आप हमेशा ऑफिशियल ऐप स्टोर से ही किसी ऐप को इंस्टॉल करें। ऐप इंस्टॉल करने से पहले उसके रिव्यू को जरूर चेक कर लें। किसी थर्ड पार्टी ऐप स्टोर या वेबसाइट से किए गए ऐप में वायरस हो सकता है।
  • इसके अलावा सोशल इंजीनियरिंग का भी यूज करके टारगेट के फोटो या वीडियो तक पहुंचा जा सकता है। इसमें लोगों को सोशल टेक्नीक का यूज करके फंसाया जाता है। इससे हैकर्स को यूजर का अकाउंट और पासवर्ड मिल जाता है।