sahara india ka paisa kab milega: sahara india Return Money with Interest?

Sahara India के निवेशकों को ब्याज सहित वापस मिलेगा पैसा? कंपनी ने Investors के लिए कही ये बड़ी बात

Sahara India के निवेशकों को ब्याज सहित वापस मिलेगा पैसा? sahara india ka paisa kab milega: sahara india will Return Money with Interest?

Edited By: , July 2, 2022 / 07:07 PM IST

नई दिल्ली: sahara india ka paisa kab milega देशभर में सहारा इंडिया के करोड़ों निवेशक हैं जो अब अपना पैसा पाने के लिए भटक रहे हैं। निवेशक लगातार अपने नजदीकी कार्यालय और जिला प्रशासन के कार्यालय पहुंचकर पैसा वापस दिलाने की मांग कर रहे हैं। लेकिन अब तक निवेशकों की समस्या का समाधान नहीं हो पाया है। इसी बीच सहारा की ओर से एक लेटर जारी किया गया है, जिसमें कंपनी ने बताया है कि निवेशकों का पैसा कहां है।>>*IBC24 News Channel के WhatsApp  ग्रुप से जुड़ने के लिए  यहां Click करें*<<

Read More: 50 से 55 साल के कर्मचारियों का किया जाएगा जबरन रिटायर, भ्रष्ट अफसरों के खिलाफ कार्रवाई के बाद इस राज्य की सरकार ने लिया बड़ा फैसला

sahara india ka paisa kab milega सहारा की तरफ से व‍िभ‍िन्‍न समाचार पत्रों में जारी पत्र में ल‍िखा गया क‍ि वह (सहारा) भी सेबी से पीड़ित है। हमसे दौड़ने के ल‍िए कहा जाता है लेक‍िन हमें बेड़ियों में जकड़ कर रखा गया है। सहारा का कहना है क‍ि न‍िवेशकों का पैसा अब सेबी का पास है।

Read More: दो साल पहले पति की हत्या कर प्रेमी के साथ भाग आई थी महिला, अब प्रेमी ने उतार दिया मौत के घाट.

अब जब न‍िवेशकों की तरफ से सहारा में न‍िवेश क‍िए गए पैसे को वापस द‍िलाने की मांग तेजी पकड़ रही है तो प‍िछले द‍िनों सहारा (Sahara) ने सेबी (SEBI) पर निवेशकों के 25,000 करोड़ रुपए रखने का आरोप लगाया है। पहले भी सहारा की तरफ से यह जानकारी न‍िवेशकों को दी जा चुकी है।

Read More: यहां नसबंदी कराने लगी पुरुषों में होड़, इस कानून का दिखा असर, वाइफ को लेकर कही ऐसी बातें 

सरकार भी न‍िवेशकों का पैसा वापस द‍िलाने के ल‍िए प्रयासरत है। प‍िछले द‍िनों वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी (Pankaj Choudhary) ने भी सदन में इस बारे में बयान द‍िया था। वित्त राज्यमंत्री ने अपने बयान में कहा था क‍ि सेबी (SEBI) को महज 81.70 करोड़ रुपए के लिए 53,642 ओरिजिनल बॉन्ड सर्टिफिकेट / पास बुक से जुड़े 19,644 आवेदन म‍िले हैं। सरकार ने यह भी बताया था क‍ि शेष आवेदनों का SIRECL और SHICL की तरफ से उपलब्ध कराए गए दस्तावेजों में रिकॉर्ड ट्रेस नहीं हो पा रहा।

Read More; गिरजा ने दिव्यांगता को नहीं बनाई कमजोरी, ज्वेलरी डिजाइनिंग का प्रशिक्षण देकर बेसहारा दिव्यांगों को बना रही आत्मनिर्भर

 

#HarGharTiranga